BPSC परीक्षा के लिए ऊपरी आयु सीमा बढ़ाएंगे, शिक्षा पर बजट का 22% करेंगे खर्च: तेजस्वी यादव

Tejashwi Yadav
मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी ने आरोप लगाया कि बिहार लोक सेवा आयोग न तो समय पर कोई परीक्षा आयोजित करता है और न ही समय पर परिणाम की घोषणा करता है।

पटना। राजद नेता तेजस्वी यादव ने मंगलवार को कहा कि अगर सत्ता में आए तो वह बीपीएससी उम्मीदवारों की सभी श्रेणियों के लिए ऊपरी आयु सीमा बढ़ा देंगे और उनकी सरकार शिक्षा पर राज्य के बजट का 22 प्रतिशत खर्च करेगी। विपक्षी महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी ने आरोप लगाया कि बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) न तो समय पर कोई परीक्षा आयोजित करता है और न ही समय पर परिणाम की घोषणा करता है, युवा बीपीएससी कार्यालय के बाहर इंतजार करते रहते हैं कि और यह पूछते फिरते हैं कि क्या 2014 की परीक्षा के परिणाम घोषित किए गए हैं। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में 10 लाख नौकरियां देने के लिए संसाधनों का अभाव नहीं, नीयत की कमी है: कांग्रेस 

उन्होंने आरोप लगाया कि बीपीएससी द्वारा देरी के कारण आयु सीमा पार कर जाने के कारण कई उम्मीदवार परीक्षा मे शामिल होने से वंचित रह जाते हैं। तेजस्वी ने पूछा, अगर बीपीएससी (परीक्षा आयोजित करने और परिणाम की घोषणा करने में) देरी करती है, बिहार के युवा क्यों नुकसान उठाए? हम सामान्य और साथ ही आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा बढ़ाएंगे । उन्होंने यह भी कहा, अनुबंध प्रणाली को समाप्त कर स्थायी आधार पर लोगों को रोजगार देने के लिए हमारी दृढ़ प्रतिबद्धता है। 

इसे भी पढ़ें: देश के महत्त्वपूर्ण साहित्यकारों की अपील, बिहार का विकास करने वालों के पक्ष में डालें वोट 

तेजस्वी ने आरोप लगाया कि बिहार के युवा और छात्र नीतीश सरकार से पूरी तरह निराश हैं। इससे पहले दिन में साहेबगंज विधानसभा क्षेत्र में एक रैली को संबोधित करते हुए, उन्होंने कहा कि अगर सत्ता में आए तो हम कुल बजट का 22 प्रतिशत शिक्षा पर खर्च करेंगे। तेजस्वी पूर्व में यह घोषणा कर चुके हैं कि अगर वे सत्ता में आए तो वे पहली ही कैबिनेट में सरकार में 10 लाख नौकरियों को मंजूरी देंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़