अर्पिता के घर में मिली 'ब्लैक डायरी' खोलेगी घोटाले के राज? कोड वर्ड डिकोड होने पर कई हाईप्रोफाइल नामों से उठ सकता है पर्दा

Arpita
Creative Common
अभिनय आकाश । Jul 26, 2022 1:13PM
केंद्रीय जांच एजेंसी ने अर्पिता मुखर्जी के हरिदेबपुर स्थित फ्लैट की तलाशी ली जहां बहुत कुछ पाया गया। उनमें से सीज़ की सूची में दो डायरियों का उल्लेख है। ईडी के सूत्रों के मुताबिक एक 40 पेज का है और दूसरा 11 पेज का।

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी की मुसीबतें और बढ़ने वाली है। प्राप्त जानकारी के अनुसार ईडी को पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के यहां छापे में एक ब्लैक डायरी मिला है। अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट में मिली 'ब्लैक डायरी' को लेकर रहस्य बढ़ता ही जा रहा है. ईडी सूत्रों के मुताबिक अर्पिता मुखर्जी के घर से बरामद डायरी में कई अहम जानकारियां हैं। लेकिन वे कोड के माध्यम से लिखे गए हैं और जो सांकेतिक भाषा में लिखा है। उस डायरी में कोड भाषा में क्या लिखा है ये ईडी के अधिकारी जानने को बेताब हैं। और इसीलिए केंद्रीय जांच एजेंसी विशेषज्ञों की मदद लेने जा रही है। इसलिए डायरी की कोड भाषा को डिकोड करने के लिए आज ईडी कार्यालय में विशेषज्ञों को बुलाया गया है।

इसे भी पढ़ें: कोर्ट ने पार्थ चटर्जी, उनकी सहयोगी की हिरासत के लिए ईडी की याचिका पर आदेश सुरक्षित रखा

केंद्रीय जांच एजेंसी ने अर्पिता मुखर्जी के हरिदेबपुर स्थित फ्लैट की तलाशी ली जहां बहुत कुछ पाया गया। उनमें से सीज़ की सूची में दो डायरियों का उल्लेख है। ईडी के सूत्रों के मुताबिक एक 40 पेज का है और दूसरा 11 पेज का। जांचकर्ताओं के मुताबिक अर्पिता के फ्लैट से अब तक मिले दस्तावेजों से भी उसके पार्थ चटर्जी से संबंध होने के स्पष्ट सबूत मिलते हैं। इतना ही नहीं पूर्व शिक्षा मंत्री ने अर्पिता के फ्लैट में शिक्षक भर्ती से जुड़े कई दस्तावेज छिपाए थे। अब ईडी सूत्रों के मुताबिक अर्पिता जांच में सहयोग कर रही है लेकिन पार्थ चटर्जी के मामले में ऐसा नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बंगाल के दमदम लोकसभा क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान की शुरुआत की

अर्पिता पहले ही जिरह में कुछ अहम जानकारियां दे चुकी हैं। लेकिन पार्थ जवाब देने से कतराते हैं। पर्थ को कांफ्रेंस हॉल में अस्थाई लॉक-अप बनाकर रखा गया है। वहीं अर्पिता ईडी के लॉकअप में हैं। ईडी इन दोनों से पूछताछ कर इस भ्रष्टाचार में शामिल 'अदृश्य' हाथों का पता लगाना चाहता है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़