नेतृत्व में कोई बदलाव नहीं, कार्यकाल पूरा करेंगे येदियुरप्पा: कर्नाटक भाजपा प्रमुख

नेतृत्व में कोई बदलाव नहीं, कार्यकाल पूरा करेंगे येदियुरप्पा: कर्नाटक भाजपा प्रमुख

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने यहां पत्रकारों से कहा, कोई बदलाव नहीं होगा। येदियुरप्पा सर्वसम्मति प्राप्त नेता हैं। केन्द्र (केन्द्रीय नेतृत्व) पहले ही यह स्पष्ट कर चुका है कि कोई बदलाव नहीं होगा। ऐसी कोई चर्चा नहीं हुई...यह पार्टी में चर्चा का विषय ही नहीं है।

बेंगलुरु। एचडी कुमारास्वामी की सरकार जाने के बाद कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनी थी। जब से बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में यह सरकार बनी है तब से नेताओं और विधायकों की नाराजगी लगातार सामने आती रहती है। इस बात की भी शंका जाहिर की जाती है कि राज्य में नेतृत्व परिवर्तन कभी भी हो सकता है। कई विधायकों ने आलाकमान से येदियुरप्पा के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। पिछले दिनों हमने देखा किस तरीके से कर्नाटक 1-2 भाजपा नेता दिल्ली दौरे पर थे। इसके बाद से इस सवाल को और भी बल मिला कि कर्नाटक में आलाकमान नेतृत्व परिवर्तन पर विचार कर रहा है। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक: घोड़े की अंतिम यात्रा में जुटे सैकड़ों लोग, उड़ाई गई कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां, पूरा गांव सील

इसी सवाल का जवाब कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कतील से मांगा गया। कतील ने साफ तौर पर कहा कि फिलहाल राज्य नेतृत्व में किसी भी तरह के फेरबदल की संभावना है ही नहीं है। कतील ने यह भी दावा किया कि मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा एक सर्वसम्मत नेता हैं और वह अपना कार्यकाल पूरा करेंगे। कतील ने पार्टी विधायकों को कोविड-19 प्रबंधन के अलावा किसी भी तरह की गतिविधियों में शामिल नहीं होने का निर्देश दिया। उन्होंने कोविड-19 के चलते, पार्टी विधायक दल की तत्काल बैठक आयोजित करने की संभावना से भी इनकार कर दिया। कतील ने कहा कि पर्यटन मंत्री सी पी योगेश्वर से खुलेआम नाराजगी प्रकट करने के लिये स्पष्टीकरण मांगा जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: मेरा ध्यान केवल कोविड-19 को नियंत्रित करने पर ध्यान केन्द्रित है: बीएस येदियुरप्पा

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने यहां पत्रकारों से कहा, कोई बदलाव नहीं होगा। येदियुरप्पा सर्वसम्मति प्राप्त नेता हैं। केन्द्र (केन्द्रीय नेतृत्व) पहले ही यह स्पष्ट कर चुका है कि कोई बदलाव नहीं होगा। ऐसी कोई चर्चा नहीं हुई...यह पार्टी में चर्चा का विषय ही नहीं है। कतील ने कहा कि येदियुरप्पा जब मुख्यमंत्री बने थे, तबसे ही नेतृत्व में बदलाव की अफवाहें फैलनी शुरू हो गई थीं। उन्होंने दोहराया कि येदियुरप्पा दो साल पूरे कर चुके हैं और शेष कार्यकाल भी पूरा करेंगे। कतील ने कहा, कोविड-19 से निपटना प्रत्येक विधायक, पदाधिकारी और कार्यकर्ता की जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री भी इसमें शामिल हैं। हमारे सभी नेता इसमें शामिल हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।