यूपी में फिर योगी सरकार, 235 सीटों के साथ सत्ता में वापसी करेगी भाजपा

यूपी में फिर योगी सरकार, 235 सीटों के साथ सत्ता में वापसी करेगी भाजपा

ओपिनियन पोल में भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच मुख्य मुकाबला दिखाई दे रहा है। समाजवादी पार्टी भाजपा को कड़ी चुनौती देती नजर आ रही है। भाजपा को जहां 403 सीटों में से 230 से 235 मिलती दिखाई दे रही है तो वहीं समाजवादी पार्टी को 160 से 165 सीटें मिल सकती हैं।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। सभी पार्टियां अपनी-अपनी जीत का दावा कर रही हैं। इन सबके बीच सबसे बड़ा सवाल तो यही है कि आखिर उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कौन सी पार्टी जीत हासिल करेगी। क्या भाजपा एक बार फिर से पुराने रिकॉर्ड को तोड़ते हुए जीत दोहरा पाएगी या फिर अखिलेश यादव सत्ता के रथ पर सवार होंगे? इसी को लेकर विभिन्न ओपिनियन पोल भी सामने आ रहे हैं। इसी कड़ी में आज इंडिया टीवी का ओपिनियन पोल भी आया है। इंडिया टीवी के ओपिनियन पोल के मुताबिक भाजपा को उत्तर प्रदेश में 230 से 235 सीटें मिल सकती है। इसका मतलब साफ है कि एक बार फिर से योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने जा रही है।

इसे भी पढ़ें: यूपी चुनाव: पंकज सिंह, धीरेंद्र सिंह और तेजपाल नागर पर भाजपा ने फिर लगाया दांव

इंडिया टीवी के ओपिनियन पोल में भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच मुख्य मुकाबला दिखाई दे रहा है। समाजवादी पार्टी भाजपा को कड़ी चुनौती देती नजर आ रही है। भाजपा को जहां 403 सीटों में से 230 से 235 मिलती दिखाई दे रही है तो वहीं समाजवादी पार्टी को 160 से 165 सीटें मिल सकती हैं। बसपा और कांग्रेस को कुछ खास हासिल होता दिखाई नहीं दे रहा है। कांग्रेस को जहां 3 से 7 सीटें मिल सकती हैं तो वहीं बसपा को सिर्फ दो से 5 सीटें ही मिलती दिखाई दे रही है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा विधायकों के कांग्रेस में जाने की चर्चाएं महज अफवाह: रमेश पोखरियाल निशंक

पश्चिमी उत्तर प्रदेश और पूर्वांचल में भाजपा को कड़ी चुनौती मिलती हुई दिखाई दे रही है। पूर्वांचल में भाजपा को महज 66 सीटें ही मिलते हुए दिखाई दे रही है। यही कारण है कि पार्टी ने पहले से ही पूर्वांचल में अपनी पकड़ को मजबूत करने की कोशिश करती है। समाजवादी पार्टी को 51 सीटें मिल रही हैं जबकि बसपा को दो और कांग्रेस को 3 सीटें मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। 2017 में पूर्वांचल में भाजपा को 94 सीटें मिली थी। इसका मतलब साफ है कि उसे इस बार नुकसान होता दिखाई दे रहा है। हालांकि इस ओपिनियन पोल में यह भी खुलकर आया है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से बड़ी जीत हासिल कर सकते हैं। गोरखपुर भाजपा का घर रहा है और योगी आदित्यनाथ 1998 से लगातार पांच बार गोरखपुर से सांसद रह चुके हैं।

क्षेत्रवार विवरण

पश्चिमी यूपी- बीजेपी और उसके सहयोगी पश्चिमी यूपी की कुल 97 सीटों में से 59 सीटें जीत सकते हैं, जबकि सपा-रालोद गठबंधन 37 सीटें जीत सकता है। बसपा एक सीट जीत सकती है, और कांग्रेस एक भी सीट नहीं जीत रही।

रोहिलखंड - बीजेपी और सहयोगी 52 में से 22 सीटें जीत सकते हैं, जिसमें एसपी-आरएलडी गठबंधन को 29 सीटें जीतने का अनुमान है। कांग्रेस एक सीट जीत सकती है।

अवध- भाजपा अवध क्षेत्र की कुल 111 सीटों में से 68 सीटें जीत सकते हैं, जबकि सपा और सहयोगी 42 सीटें जीत सकते हैं। कांग्रेस एक सीट जीत सकती है।

बुंदेलखंड- बीजेपी कुल 19 में से 17 सीटें जीत सकती हैं, जबकि सपा और सहयोगी केवल दो ही जीत सकती हैं।

पूर्वांचल- भाजपा और उसके सहयोगी दल कुल 124 सीटों में से 66 सीटें जीत सकती हैं, सपा और सहयोगी 51 सीटें जीत सकती हैं, बसपा दो सीटें, कांग्रेस तीन और निर्दलीय समेत अन्य दो सीटें जीत सकती हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।