किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य की ओर तेजी से बढ रही सरकार: योगी

yogi-growing-fast-towards-the-goal-of-doubling-the-income-of-farmers
योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में साढ़े तीन करोड़ से अधिक किसानों को इस तरह के कार्ड दिये जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसान कल्याण की अनेक योजनाएं लागू की हैं।

गोरखपुर (उप्र)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि सरकार किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य की ओर तेजी से आगे बढ रही है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इस सपने को पूरा करने के लिए किसानों को खुद भी तैयार होना होगा। योगी ने मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, गोरखपुर में सीआईआई और कृषि विभाग के तत्वाधान में आयोजित प्रगतिशील किसानों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा,‘‘हम किसानों की आय को दुगुना करने के लक्ष्य की ओर तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। प्रधानमंत्री के इस सपने को पूरा करने के लिए किसानों को खुद भी तैयार होना पड़ेगा।’’ उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश जैसे प्रदेश की एक बड़ी आबादी कृषि पर निर्भर है। जागरूकता और नवीन तकनीक के अभाव में किसानों को अनेक कठिनाइयों और चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। उन चुनौतियों को दूर करने के लिए प्रधानमंत्री ने मृदा स्वास्थ्य कार्ड जैसी योजना शुरु की। 

योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में साढ़े तीन करोड़ से अधिक किसानों को इस तरह के कार्ड दिये जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसान कल्याण की अनेक योजनाएं लागू की हैं। किसान सम्मान निधि के माध्यम से सभी किसानों को छह हजार रुपये सालाना देने की व्यवस्था की गई है ताकि किसानों को किसी के सामने हाथ न फैलाने पड़े। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को फसल लागत का डेढ़ गुना दाम देने की व्यवस्था भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हुई है। उन्होंने कहा कि सपा सरकार ने दुग्ध उत्पादन को लगभग उजाड़ दिया था। हमारी सरकार डेयरी उद्योग को बढ़ावा दे रही है। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश में 14 से ज्यादा डेयरी शुरू होने वाली हैं। दुग्ध समितियों द्वारा किसानों से दूध क्रय करने की व्यवस्था की जा रही है, जिससे किसान डेयरी उद्योग के साथ अधिक से अधिक जुड़ सकें।

इसे भी पढ़ें: किसानों की खुदकुशी से जुड़ी रिपोर्ट को लेकर कांग्रेस से साधा मोदी सरकार पर निशाना

उन्होंने कहा कि किसानों को खेती के साथ.साथ पशुपालन, डेयरी उद्योग, बागवानी, सब्जी उत्पादन, मुर्गी पालन, मछली पालन,बत्तख पालन आदि के साथ जुड़ना पड़ेगा ताकि उनकी आमदनी में बढ़ोत्तरी हो सके। उन्होंने कहा कि किसान सबसे बड़ा कृषि वैज्ञानिक है इसलिए किसानों को अपने अनुभवों को कृषि विभाग के साथ साझा करना चाहिए ताकि उनके हित में ज्यादा से ज्यादा कार्य किये जा सकें। योगी ने किसानों से कहा कि तकनीकी के साथ जुड़कर क्षेत्र की मिट्टी को देखते हुये जिस चीज़ का उत्पादन अधिक हो सके, उसी फसल का उत्पादन करें।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़