आंद्रे रसेल पर खुद होगा अलग तरह का दबाव, चहल बोले- यह IPL नहीं है

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jun 24 2019 1:07PM
आंद्रे रसेल पर खुद होगा अलग तरह का दबाव, चहल बोले- यह IPL नहीं है
Image Source: Google

वेस्टइंडीज सेमीफाइनल में प्रवेश की दौड़ से लगभग बाहर है और रसेल की चोट ने उसकी समस्यायें और बढा दी है। अब तक विश्व कप के चार मैचों में छह से कम की औसत से सात विकेट ले चुके चहल ने कहा कि हमने रणनीति बनाई है।

मैनचेस्टर। भारतीय लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल का मानना है कि टी20 लीग में जबर्दस्त बल्लेबाजी करने वाले आंद्रे रसेल समेत कैरेबियाई बल्लेबाजों के लिये भारत के खिलाफ विश्व कप के मैच में ‘परिस्थितिजन्य दबाव’ अलग किस्म का होगा। वेस्टइंडीज सेमीफाइनल में प्रवेश की दौड़ से लगभग बाहर है और रसेल की चोट ने उसकी समस्यायें और बढा दी है। अब तक विश्व कप के चार मैचों में छह से कम की औसत से सात विकेट ले चुके चहल ने कहा कि हमने रणनीति बनाई है। रसेल आक्रामक बल्लेबाज है लेकिन हमने उसे काफी गेंदबाजी की है।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान से हार शर्मनाक, विश्व कप में प्रदर्शन रहा लचर: डु प्लेसिस

उन्होंने कहा कि अपने देश के लिये खेलना आईपीएल खेलने से एकदम अलग है। इसमें मैच जीतने का दबाव उन पर भी उतना ही होगा जितना हम पर है। वे जीत के लिये बेचैन हैं और फार्म वापिस पाने की कोशिश में जुटे हैं। हालात एकदम अलग हैं। रसेल चोट के कारण न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछला मैच नहीं खेले। चहल ने कहा कि रसेल चार बल्लेबाजों के आउट होने के बाद आते हैं और उन्हें भी पता है कि ऐसे हालात में कैसे खेलना है। हम भी मैच के मुताबिक रणनीति बनायेंगे। अफगानिस्तान के खिलाफ कम स्कोर वाले मैच में भारतीय गेंदबाजों ने अपनी उपयोगिता साबित की। 

इसे भी पढ़ें: ब्रैंडन मैकुलम बोले, न्यूजीलैंड के पास विश्व चैम्पियन बनने की क्षमता



चहल ने कहा कि हमने 230 से कम रन बनाये थे जिसके नकारात्मक और सकारात्मक दोनों पहलू हैं। इस तरह के मैच जीतने पर हौसला मिलता है कि हम कम स्कोर वाले मैच भी जीत सकते हैं। उन्होंने कठिन पिच पर अर्धशतक बनाने वाले केदार जाधव की तारीफ करते हुए कहा कि पहली पारी में केदार की बल्लेबाजी शानदार थी जब पिच टर्न ले रही थी। हमें लगा कि हम 270 के करीब रन बना लेंगे लेकिन उन्होंने इतनी अच्छी गेंदबाजी की कि हम 30-40 रन पीछे रह गए। चहल ने कहा कि गेंदबाजी में हमारा लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा डाट गेंद डालने का था ताकि आखिरी ओवरों में उन्हें छह या सात की औसत से रन बनाने हों। कई बार आप 350 रन बनाकर भी हार जाते हैं और कई बार 250 रन बनाकर भी जीत जाते हैं, यह मानसिकता की बात है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video