मुरलीधरन ने ‘स्टॉक बॉल’ करने की सलाह दी: नदीम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 30, 2019   17:38
मुरलीधरन ने ‘स्टॉक बॉल’ करने की सलाह दी: नदीम

बायें हाथ का यह गेंदबाज भारत ए टीम का नियमित सदस्य है जो आईपीएल में भी काफी सफल रहा है।लंबे समय तक दिल्ली डेयरडेविल्स (अब दिल्ली कैपिटल्स) टीम का सदस्य रहे नदीम अब सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेल रहे है।

नयी दिल्ली।झारखंड के स्पिन गेंदबाज शाहबाज नदीम की खासियत रनों पर अंकुश लगाकर बल्लेबाजों को हताश करने की है और आईपीएल में उनकी टीम सनराइजर्स हैदराबाद के कोच मुथैया मुरलीधरन ने उन्हें अपने ‘स्टॉक बॉल’ के साथ बने रहने की सलाह दी है। बायें हाथ का यह गेंदबाज भारत ए टीम का नियमित सदस्य है जो आईपीएल में भी काफी सफल रहा है।लंबे समय तक दिल्ली डेयरडेविल्स (अब दिल्ली कैपिटल्स) टीम का सदस्य रहे नदीम अब सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेल रहे है। 

इसे भी पढ़ें: CSK के इस खिलाड़ी ने आईपीएल से बाहर होने का लिया फैसला

नदीम ने कहा, ‘‘मुरलीधरन की देखरेख में प्रशिक्षण करना बहुत अच्छा रहा है। मैंने उनके मार्गदर्शन में बहुत कुछ सीखा है। मैं अपनी गेंदबाजी में उसे लागू कर रहा हूं। उसने मुझे अपनी स्टॉक बॉल (दाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए बाहर निकलने वाली गेंद) के साथ बने रहने की सलाह दी।’’ विजय हजारे ट्राफी में राजस्थान के खिलाफ 10 रन देकर आठ विकेट चटका कर रिकार्ड बनने वाले 29 साल के इस गेंदबाज का चयन वेस्टइंडीज के खिलाफ श्रंखला के लिए भारतीय टी20 टीम में भी हुआ लेकिन उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला। 

इसे भी पढ़ें: नो-बॉल विवाद: मैच रेफरी की रिपोर्ट में अंपायर के खिलाफ कुछ भी गलत नहीं

नदीम ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय टीम के लिए चुने जाने पर मुझे खुशी हुई। यह मेरे लिए बड़ी बात है। इससे मुझे और अच्छा प्रदर्शन करने का हौसला मिलेगा। शायद अगली बार खेलने का भी मौका मिले।’’ सीमित ओवरों के खेल में पिछले कुछ समय से कलाई के स्पिनरों का दबदबा रहा है लेकिन नदीम का मानना है कि किसी भी गेंदबाज के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन करना जरूरी है। उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता कि इस बात से फर्क पड़ता है कि कोई कलाई का स्पिनर है या अंगुली का। अगर आपके प्रदर्शन में निरंतरता है तो आपको मौका मिलेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

खेल

झरोखे से...