महाराष्ट्र में हैं तो इन ट्रेकिंग स्पॉट्स पर जाएं जरूर

महाराष्ट्र में हैं तो इन ट्रेकिंग स्पॉट्स पर जाएं जरूर

माथेरान अपनी सौहार्दपूर्ण जलवायु और विभिन्न ट्रेकिंग ट्रेल्स के साथ, वर्ष भर पर्यटकों को आकर्षित करता है। यहां करीबन 28 व्यू प्वाइंट मौजूद हैं। विभिन्न ट्रेकिंग मार्गों के बीच, सबसे प्रसिद्ध एक गार्बर्ट पठार से होकर जाता है।

महाराष्ट्र अपनी प्राकृतिक सुंदरता और जंगल के बीच ट्रेकिंग अभियानों के लिए बेहद प्रसिद्ध है। यहां के आकर्षक हिल स्टेशन, शांत झीलें, के साथ ट्रेकर्स के शौकीनों के लिए बेहतरीन ट्रेकिंग स्पॉट्स मौजूद हैं। अगर आपा भी उनमें से एक हैं, जो एडवेंचर पसंद करते हैं तो ऐसे में आपको महाराष्ट्र के कुछ ट्रेकिंग स्पॉट्स में जरूर जानना चाहिए। तो चलिए जानते हैं महाराष्ट्र के कुछ बेहतरीन ट्रेकिंग स्पॉट्स के बारे में−

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में इन जगहों को नहीं देखा तो समझ लो कुछ नहीं देखा

माथेरान ट्रेक

माथेरान अपनी सौहार्दपूर्ण जलवायु और विभिन्न ट्रेकिंग ट्रेल्स के साथ, वर्ष भर पर्यटकों को आकर्षित करता है। यहां करीबन 28 व्यू प्वाइंट मौजूद हैं। विभिन्न ट्रेकिंग मार्गों के बीच, सबसे प्रसिद्ध एक गार्बर्ट पठार से होकर जाता है। इसके अलावा, चंदेरी गुफाओं की ट्रेकिंग करना अपने आप में बेहद एडवेंचर्स है।

कलसुबाई ट्रेक

5,400 फीट की ऊंचाई के साथ कलसुबाई, सह्याद्री पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटी है। यह कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयार.य का एक हिस्सा भी है जो कलसुबाई से हरिश्चंद्रगढ़ तक फैला हुआ है। बारिश के मौसम में यहां ट्रेकिंग करना सबसे अच्छा अनुभव है। इस समय यहां पर हरी−भरी घाटियां, ठंडी हवाएं, बादलों को मँडराते हुए और रोमांचकारी झरने नजर आते हैं।

कोरीगाड फोर्ट ट्रेक

कोरीगाड किला पुणे जिले में लोनावाला से लगभग 20 किमी दूर स्थित है। कोरिगड फोर्ट ट्रेक महाराष्ट्र में लोकप्रिय ट्रेक में से एक है। शिखर तक पहुँचने के लिए दो मार्ग हैं। एक पेठ शाहपुर नामक गाँव का है और दूसरा अंबावने गाँव का है। शिव और विष्णु को समर्पित अन्य छोटे मंदिरों के साथ, यहां देवी कोराई देवी का मंदिर भी मौजूद है।

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु के कुन्नूर में यह हैं घूमने की बेहतरीन जगहें

तिकोना ट्रेक

तिकोना ट्रेक जिसे विटंदगढ़ के नाम से भी जाना जाता है, पुणे से लगभग 60 किलोमीटर दूर कामशेत के पास स्थित है। यह पश्चिमी भारत के मावल में एक प्रभावशाली और प्रभावी पहाड़ी किला है। 3500 फीट तक की पहाड़ी, इसका नाम इसके पिरामिड आकार से लिया गया है। एक ट्रेकिंग गंतव्य के रूप में, यह अपने बड़े दरवाजों, सात पानी की टंकियों, त्र्यंबकेश्वर महादेव के मंदिर और कुछ सातवाहन गुफाओं के लिए प्रसिद्ध है।

राजमाची ट्रेक

राजमची, लोनावाला से लगभग 15 किमी दूर, भारत में सबसे लोकप्रिय ट्रेकिंग स्थलों में से एक है। यहां दो किले हैं, जिनका नाम श्रीवर्धन और मनरंजन है। ऐतिहासिक व्यापार मार्ग पर स्थित, वे घाटी के शानदार दृश्य प्रदान करते हैं। पूरा मार्ग दोनों तरफ घने जंगलों से घिरा हुआ है। यहां आने के लिए एक कर्जत और दूसरा लोनावाला का रास्ता लिया जा सकता है। 

मिताली जैन