वीकेंड पर दिल्ली के पास इन जगहों पर उठाएं ट्रैकिंग का मजा

वीकेंड पर दिल्ली के पास इन जगहों पर उठाएं ट्रैकिंग का मजा

चकराता नाम से जाने वाला स्थान यमुना और टोंस नदियों के बीच स्थित एक छोटा सा हिल स्टेशन है। पहाड़ी के आसपास का वातावरण और उस स्थान के पास पानी का जमाव, इसे एक स्वर्गीय स्पर्श प्रदान करता है।

दिल्ली का नाम आते ही शॉपिंग से लेकर घूमने−फिरने की बेहतरीन जगहों का नाम आंखों के सामने घूमने लगता है। हालांकि देश की राजधानी में मस्ती करने से लेकर कुछ एडवेंचर्स एक्टिविटीज का भी लुत्फ उठाया जा सकता है। मसलन, अगर आपको ट्रैकिंग का शौक है तो आप वीकेंड पर दिल्ली के करीब इन जगहों पर जा सकते हैं और अपने इस शौक को पूरा कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इन जगहों के बारे में−

इसे भी पढ़ें: पुदुचेरी जाएं तो एक बार जरूर देखें यह जगहें

नाग टिब्बा ट्रेक

यह निश्चित रूप से दिल्ली से सबसे अच्छा सप्ताहांत ट्रेक है, जो समुद्र तल से लगभग 10000 फीट ऊपर स्थित है। ट्रेक के दौरान आप देवदार और ओक के घने जंगलों से गुजरेंगे, जिसमें केदारनाथ चोटी के अद्भुत दृश्य, बर्फ से ढंके बंदरपूँछ शिखर और गंगोत्री की चोटियाँ आपको एक अलग अनुभव करवाएंगी। गढ़वाल हिमालय के नाग टिब्बा रेंज में सबसे ऊंची चोटी है।

चकराता ट्रेक

चकराता नाम से जाने वाला स्थान यमुना और टोंस नदियों के बीच स्थित एक छोटा सा हिल स्टेशन है। पहाड़ी के आसपास का वातावरण और उस स्थान के पास पानी का जमाव, इसे एक स्वर्गीय स्पर्श प्रदान करता है। वीकेंड पर दिल्ली के करीब यह एक बेहतरीन ट्रेक है। 7000 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह ट्रेक देहरादून में स्थित है।

इसे भी पढ़ें: कोरोना काल में बंद हैं सभी स्मारक, संग्रहालय और संरक्षित स्थल

बेनोग टिब्बा ट्रेक 

इस ट्रेक के बारे में लोगाों को कम ही पता है, हालांकि बिगनर्स के लिए यह एक बेहतरीन ट्रेक है। यह 2250 मीटर की ऊंचाई पर है, और मसूरी क्षेत्र की सबसे ऊंची चोटियों में से एक है। यह मसूरी के पश्चिमी बाहरी इलाके में स्थित माउंटेन क्वेल अभयारण्य में एक पूरे दिन का ट्रेक है। ट्रेक में सुंदर वन वॉक शामिल है। यहां पर आपको ज्वाला देवी को समर्पित एक मंदिर के दर्शन करने का मौका भी मिलेगा।

बिजली महादेव ट्रेक

कुल्लू से शुरू करते हुए यह ट्रेक आपको हिमाचल प्रदेश राज्य के बिजली महादेव के पवित्र मंदिर तक ले जाता है। यह नग्गर से ट्रेक करता है और कैस वन्यजीव अभयारण्य के अंदरूनी हिस्सों से होकर आगे और अधिक लुभावना नजर आता है। एक साधारण 15 किलोमीटर का ट्रेक, इस मार्ग के आसपास के पहाड़ों के विशिष्ट दृश्यों के साथ अपने पैदल यात्रियों को आकर्षित करने के लिए निश्चित है।

मिताली जैन