अजीब है इस गाँव की परंपरा, यहाँ खुद की बारात में नहीं जाता दूल्हा, बहन फेरे लेकर दुल्हन को लाती है घर

 barat goes without groom
unsplash
हम आपको शादी की एक ऐसी अजीबोगरीब परंपरा के बारे में बताने जा रहे है, जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। जी हाँ,मध्य प्रदेश की सीमा पर बसे हुए आदिवासी गांव में शादी में बारात बिना दूल्हे के ही जाती है। इतना ही नहीं, यहां शादी में दूल्हे से पहले उसकी बहन दुल्हन के साथ सात फेर लेती है।

हमारे देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरीके से शादी होती है। शादी की समय दूल्हा-दुल्हन कई रस्में निभाते हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में समाज के हिसाब से ये रस्में भी बदलती हैं। लेकिन आज हम आपको शादी की एक ऐसी अजीबोगरीब परंपरा के बारे में बताने जा रहे है, जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। जी हाँ, मध्य प्रदेश की सीमा पर बसे हुए आदिवासी गांव में शादी  में बारात बिना दूल्हे के ही जाती है। इतना ही नहीं, यहां शादी में दूल्हे से पहले उसकी बहन दुल्हन के साथ सात फेर लेती है।

इसे भी पढ़ें: 'हर-हर शंभू' गाने वाली फरमानी नाज के समर्थन में आया यह मुस्लिम संगठन, जल्द किया जाएगा सम्मानित

मध्य प्रदेश की सीमा पर बसे आदिवासी इलाकों के अंबाला, सुरखेड़ा व सनेडा गांव में जब शादी के लिए बारात निकाली जाती है तो उसने दूल्हा नहीं जाता है। यहां पर यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। इतना ही नहीं यहां पर दुल्हन के साथ दूल्हा नहीं बल्कि उसकी बहन सात फेरे लेती है। मध्य प्रदेश से सटे इन इलाकों में आज भी यह परंपरा निभाई जाती है।

इसे भी पढ़ें: World Breastfeeding Week 2022: स्तनपान कराने से शिशु ही नहीं बल्कि माँ को भी होते हैं ढेरों लाभ, कई बीमारियों से होता है बचाव

आदिवासी समुदाय के लोगों का मानना है कि अंबाला गांव के पास दाहिनी तरफ पर एक पहाड़ी पर देवता भरमादेव निवास करते हैं जो आदिवासी समुदाय के आराध्य हैं। ऐसा माना जाता है कि हर महादेव कुंवारे थे और इसी कारण अंबाला सुरखेड़ा व सनेड़ा गांव में बारात में दूल्हा नहीं जाता है वरना उसकी मृत्यु हो जाती है। भरमा देव के प्रकोप से बचने के लिए दूल्हे की बहन बारात लेकर जाती है और दुल्हन के साथ सात फेरे लेती है।

गांववालों का कहना है कि कुछ सालों पहले तीन युवकों ने इस परंपरा को नहीं निभाया था और खुद ही अपनी बारात लेकर पहुंच गए थे। जिसके बाद किसी कारणवश उन तीनों की मौत हो गई। लोगों का मानना है कि यह ब्रह्मदेव का प्रकोप है और इसके बाद से किसी भी युवक ने अपनी बारात नहीं निकाली। इस समुदाय में शादी की तारीख तय होने के बाद से ही दुल्हा घर से बाहर नहीं निकलता है। जिस शादी होती है तो बहन के फेरे लेने के बाद जब गांव की सीमा पर दुल्हन पहुंच जाती है तब दूल्हा उसके साथ शादी करता है और फिर दुल्हन को घर लेकर आता है।

अन्य न्यूज़