सीबीआई कराने जा रही है सुशांत सिंह राजपूत के मस्तिष्क का पोस्टमार्टम! जानें कैसे होती है साइकोलॉजी ऑटोप्सी

सीबीआई कराने जा रही है सुशांत सिंह राजपूत के मस्तिष्क का पोस्टमार्टम! जानें कैसे होती है साइकोलॉजी ऑटोप्सी

सीबीआई की केंद्रीय फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (सीएफएसएल) की टीम सुशांत सिंह राजपूत की साइकोलॉजी ऑटोप्सी करने ने जा रही है। यह तीसरी बार है जब सीएफएसएल एक हाई-प्रोफाइल मामले में मनोविज्ञान शव परीक्षा यानी कि साइकोलॉजी ऑटोप्सी आयोजित करेगा।

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत का केस अब देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी हेंडल कर रही है। पिछले दिनों सीबीआई सुशांत के बांद्रा वाले घर गयी और क्राइम सीन को रिक्रिएट किया। सीबीआई हत्या और आत्महत्या के एंगल से जांच कर रही हैं। सुशांत की मौत के दौरान घर में मौजूद लोगों से सीबीआई ने लंबी पूछताछ की है। सुशांत मामले में एक बात और सामने आ रही है वो  ये है कि सुशांत सिंह राजपूत के मस्तिष्क का पोस्टमार्टम होगा। दिमाग का पोस्टमार्टम यानी मनोवैज्ञानिक शव परीक्षा जिसे जांच एक्सपर्ट की भाषा में साइकोलॉजी ऑटोप्सी (Psychological Autopsy of Sushant Singh Rajput) कहते हैं। 

 

इसे भी पढ़ें: सुशांत सिंह राजपूत के बहनोई ने जारी किए दो वीडियो, बताया क्यों बनाई थी सुशांत से दूरी

सुशांत सिंह राजपूत की मौत का राज खोलेगी साइकोलॉजी ऑटोप्सी  

सीबीआई की केंद्रीय फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (सीएफएसएल) की टीम सुशांत सिंह राजपूत की साइकोलॉजी ऑटोप्सी करने ने जा रही है। यह तीसरी बार है जब सीएफएसएल एक हाई-प्रोफाइल मामले में मनोविज्ञान शव परीक्षा यानी कि साइकोलॉजी ऑटोप्सी आयोजित करेगा। टीम विशेष शव परीक्षा में सुशांत के मस्तिष्क का अध्ययन करेगी। इससे पहले, विभिन्न भारतीय एजेंसियों द्वारा सुनंदा पुष्कर और बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 लोगों कीआत्महत्या मामले में साइकोलॉजी ऑटोप्सी  करायी गयी थी। 

इसे भी पढ़ें: क्या पवार परिवार में सबकुछ ठीक ? तो फिर CBI जांच और राम मंदिर को लेकर विचारों में मतभेद क्यों ?

कैसे होता है दिमाग का पोस्टमार्टम- साइकोलॉजी ऑटोप्सी  

सुशांत सिंह राजपूत की मनोविज्ञान शव परीक्षा (साइकोलॉजी ऑटोप्सी) में, CFSL टीम अभिनेता के सभी सोशल मीडिया पोस्ट का अध्ययन करेगी। उनकी डायरी और व्हाट्सएप चैट में उनके नोट्स भी शव परीक्षा में पढ़े जाएंगे। टीम दिवंगत अभिनेता के परिवार, कर्मचारियों और दोस्तों से बात कर सुशांत के मूड और व्यवहार के बारे में जानकारी जुटाएगी। टीम मुंबई में अपने शुरुआती दिनों से लेकर अपनी मृत्यु के दिन तक सुशांत के व्यवहार और जीवनशैली में बदलाव के बारे में भी जानने की कोशिश करेगी। विशेषज्ञों के अनुसार, सुशांत सिंह राजपूत की मौत के पीछे की सच्चाई का पता लगाने में मनोविज्ञान की शव परीक्षा महत्वपूर्ण साबित होगी। विशेषज्ञों का कहना है कि एक तरह से टीम अभिनेता के दिमाग का पोस्टमार्टम करेगी।

सीबीआई को केस की कमांड मिलने के बाद का घटनाक्रम

19 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को मामले पर नियंत्रण करने की अनुमति दी। मामले को सुलझाने के लिए CBI की एक विशेष जांच टीम बनाई गई थी। टीम 20 अगस्त को मुंबई के लिए रवाना हुई और अपनी जांच शुरू की।

सुशांत सिंह राजपूत को उनके बांद्रा स्थित फ्लैट पर लटका पाया गया। जबकि पहले, मुंबई पुलिस मामले की जांच कर रही थी, अब इसे सीबीआई को स्थानांतरित कर दिया गया है। मुंबई पुलिस ने इसे आत्महत्या का मामला घोषित किया था, अब सीबीआई मामले में अन्य कोणों की जांच करेगी। पिछले कुछ दिनों से सीबीआई की टीम लोगों से मामले के संबंध में पूछताछ कर रही है। सुशांत के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी और कुक नीरज को जांच एजेंसी ने सोमवार को भी गिरफ्तार कर लिया। टीम मामले में वित्तीय कोण की भी जांच कर रही है। इसलिए सुशांत और रिया दोनों के सीए को तलब किया गया है। सुशांत के पूर्व अकाउंटेंट रजत मेवाती का बयान 23 अगस्त को लिया गया था।

 

टीम ने सुशांत सिंह राजपूत के कमरे में एक डमी परीक्षण भी किया और सिद्धार्थ पिठानी और नीरज की उपस्थिति में इस घटना को फिर से रिक्रिएट किया गया। ये लोग उस समय फ्लैट में मौजूद थे जब अभिनेता का शव लटका हुआ मिला था।

सीबीआई की एसआईटी जल्द ही रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार के सदस्यों को पूछताछ के लिए बुलाएगी। रिया 8 जून तक सुशांत के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में थीं, उसके बाद उन्होंने अभिनेता का घर छोड़ दिया था। 8 जून से 14 जून तक दोनों अभिनेताओं के बीच कोई संवाद नहीं था और 14 जून को सुशांत की मौत हो गयी।