‘सत्यमेव जयते’ सीक्वल में तीन भूमिकाएं निभाना काफी चुनौतीपूर्ण था: जॉन अब्राहम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2021   17:56
‘सत्यमेव जयते’ सीक्वल में तीन भूमिकाएं निभाना काफी चुनौतीपूर्ण था: जॉन अब्राहम

अभिनेता जॉन अब्राहम दर्शकों के बीच एक बार फिर ‘सत्यमेव जयते’ के ‘सीक्वल’ में सामने आ रहे हैं जिसमें वह तीन भूमिकाओं में हैं। इस बारे में उनका कहना है कि ऐसा करना काफी चुनौतीपूर्ण रहा। यह फिल्म 2018 में इसी नाम से आई फिल्म का सीक्वल है।

मुंबई। अभिनेता जॉन अब्राहम दर्शकों के बीच एक बार फिर ‘सत्यमेव जयते’ के ‘सीक्वल’ में सामने आ रहे हैं जिसमें वह तीन भूमिकाओं में हैं। इस बारे में उनका कहना है कि ऐसा करना काफी चुनौतीपूर्ण रहा। यह फिल्म 2018 में इसी नाम से आई फिल्म का सीक्वल है। इसमें अब्राहम वीरेंद्र राठौड़ के किरदार में नजर आए थे, जो भ्रष्ट पुलिस अधिकारियों को मारता है। वहीं, राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता मनोज बाजपेयी ने ईमानदार पुलिसकर्मी का किरदार अदा किया था। फिल्म का सीक्वल 25 नवंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगा। इसमें एक बार फिर अब्राहम भ्रष्टचार से लड़ते नजर आएंगे। इस बार कहानी की पृष्ठभूमि लखनऊ की है।

इसे भी पढ़ें: हैदरपोरा मुठभेड़ में मारे गए नागरिकों के परिवारों से मनोज सिन्हा को माफी मांगनी चाहिए: महबूबा

इस फिल्म में अभिनेता ने तीन किरदार-किसान पिता और उसके दो बेटों (पुलिसकर्मी और नेता) की भूमिका अदा की है। अब्राहम ने पीटीआई-से कहा कि एक फिल्म में तीन तरह का किरदार निभाना काफी चुनौतीपूर्ण रहा। उन्होंने कहा कि इसमें एक किरदार को निभाना थोड़ा आसान था क्योंकि वह पहली फिल्म में कानून अपने हाथ में लेने वाले व्यक्ति का किरदार अदा कर चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘दूसरा किरदार पुलिसकर्मी का था, जिसके लिए मुझे दो से तीन दृश्य एक दिन में शूट करने थे, शुरू में दिक्कत हुई लेकिन यह अच्छी तरह हो गया।

इसे भी पढ़ें: मेरी प्रतिभा के कारण ही मुझे तड़प में काम करने का मौका मिला : अहान शेट्टी

फिल्म में यह किरदार काफी दिलचस्प है।’’ अब्राहम ने कहा कि फिल्म में उनका पसंदीदा किरदार पिता का है। ‘मुंबई सागा’ के अभिनेता ने कहा कि फिल्म का सीक्वल बनाने का मुख्य कारण दर्शकों से पहली फिल्म को मिला प्रेम है। उन्होंने कहा कि सीक्वल का मकसद अच्छी फिल्म बनाना और सभी का मनोरंजन करना था। अब्राहम (48) ने कहा कि पहली और दूसरी फिल्म में बस विषय की समानता है और दोनों फिल्म भ्रष्टाचार के ऊपर बनी हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।