'जर्सी' के आखिरी शेड्यूल की शूटिंग करने चंडीगढ़ पहुंची मृणाल ठाकुर, कोविड19 पर दिया ये बयान

'जर्सी' के आखिरी शेड्यूल की शूटिंग करने चंडीगढ़ पहुंची मृणाल ठाकुर, कोविड19 पर दिया ये बयान

शाहिद कपूर की फिल्म जर्सी के अंतिम शेड्यूल को कुछ ही हफ्ते बाद, मृणाल ठाकुर फिल्म के आखरी शेड्यूल के लिए चंडीगढ़ पहुंची। देश में COVID के बढ़ते मामलों के बीच, स्थिति लगातार खतरनाक रही है, जिससे यूनिट के सदस्यों में भय की भावना पैदा हो रही है।

प्रेस विज्ञप्ति। शाहिद कपूर की फिल्म जर्सी के अंतिम शेड्यूल को कुछ ही हफ्ते बाद, मृणाल ठाकुर फिल्म के आखरी शेड्यूल के लिए चंडीगढ़ पहुंची। देश में COVID के बढ़ते मामलों के बीच, स्थिति लगातार खतरनाक रही है, जिससे यूनिट के सदस्यों में भय की भावना पैदा हो रही है। दिवाली के बाद कोरोना वायरस के केस में काफी वृद्धि हुई है। सावधानी बरतते हुए सरकार कुछ नए प्रतिबंधों भी लगा दिए हैं। ऐसे में शूटिंग को करने के दौरान काफी सावधानी के साथ करना होगा। नये नियमों पर मृणाल कहती हैं कि यूनिट ने स्वास्थ्य और स्वच्छता के सख्त उपायों को अपनाने का फैसला किया है। मजबूत संगरोध नियम बनाकर, शूटिंग के लंबित दिनों के लिए यूनिट को बाहरी दुनिया के साथ संपर्क कम करना होगा।

इसे भी पढ़ें: प्रभास की राह पर तेलुगु सुपरस्टार बेलमकोंडा, राजमौली की फिल्म से करेंगे बॉलीवुड में एंट्री!  

मृणाल आगे कहती हैं, "जब हमने काम पर वापस जाने का फैसला किया, तो हमने इस स्थिति का अनुमान लगाया था। यह चिंताजनक है लेकिन मुझे अपने निर्माताओं और यूनिट के सदस्यों पर पूरा भरोसा है। यदि हम गाइडलाइन्स का पालन करते हैं और सख्त उपायों को अपनाते हैं, तो हम निष्कर्ष फिल्म पूरी  कर पाएंगे।" फिल्म के शूटिंग के दौरान किसी भी समय अनपेक्षित स्थितियां बढ़ सकती हैं, लेकिन हम बाहरी दुनिया से संपर्क को कम करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करेंगे। हमारे पास सेट पर डॉक्टर और सैनिटरी अधिकारी हैं जो हम पर नज़र रखते हैं वायरस के संपर्क में नहीं आये।

इसे भी पढ़ें: मिर्जापुर के रॉबिन प्रियांशु पेनयुली ने अपनी गर्लफ्रेंड के साथ लिए सात फेरे, देखें पहाड़ी शादी की तस्वीरें  

वह आगे कहती है इस कठिन समय में, हम बेहतर समय की उम्मीद कर सकते हैं और जब की वैक्सीन जल्द आने को है, हम इस महामारी से उभरने में सक्षम होंगे। फिल्म को पूरा करना एक प्राथमिकता है क्योंकि हम कब तक अपने काम को रोक सकते हैं जब की लोग भोजन को अपनी मेज पर रखने के लिए संघर्ष कर रहे हों। एक फिल्म अकेले सितारों से नहीं बनती है। पूरा यूनिट परिवार है और जब मैं घर पर बैठना सेह सकती हूं, लेकिन मुझे पता है कि अगर मैं काम नहीं करुँगी, मेरी यूनिट को भुगतान या वेतन नहीं मिलेगा। यह सामूहिक रूप से नैतिक जिम्मेदारी है। क्या यह मुझे भयभीत करता है? हां, थोड़ा लगता हैं, लेकिन लोगों पर वित्तीय बोझ इतना अधिक है कि हमें इसे ध्यान में रखना होगा। ”