Indian Idol 12 के पवनदीप राजन रातों रात बनें स्टार, ये वेब सीरीज बनीं बड़ी वजह

  •  रेनू तिवारी
  •  मार्च 5, 2021   11:14
  • Like
Indian Idol 12 के पवनदीप राजन रातों रात बनें स्टार, ये वेब सीरीज बनीं बड़ी वजह

हाल ही में हॉटस्टार पर वेब सीरीज '1962: द वार इन द हिल्स' (1962: the war in the hills) रिलीज हुई है। इस फिल्म में बहुत कम समय के लिए इंडियन आइडल 12 (Indian Idol 12) में अपनी आवाज का जादू बिखेरने वाले पवनदीप राजन (Pawandeep Rajan) को शो में मल्टी टैलेंटिड कहा जाता है।

हाल ही में हॉटस्टार पर वेब सीरीज '1962: द वार इन द हिल्स' (1962: the war in the hills) रिलीज हुई है। इस फिल्म में बहुत कम समय के लिए इंडियन आइडल 12 (Indian Idol 12) में अपनी आवाज का जादू बिखेरने वाले पवनदीप राजन (Pawandeep Rajan) को शो में मल्टी टैलेंटिड कहा जाता है। सिंगिंग के अलावा उनका एक और टैंलेंट हाल ही में वेब सीरीज 1962: द वार इन द हिल्स में देखने को मिला। सीरीज 1962: द वार इन द हिल्स में पवनदीप राजन ने नोडो ताना नाम के सैनिक का किरदार निभाया है। सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीर काफी ज्यादा वायरल हो रही है। इंडियन आइडल 12 को देखने वाले दर्शक और पवनदीप राजन को जानने वाले सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीरें शेयर कर रहे हैं। कुछ ही घंटों में उनकी तस्वीर को लाखों लोगों ने शेयर किया।

इसे भी पढ़ें: परिणीति चोपड़ा की फिल्म 'साइना' पर लोग क्यों हुए नाराज? निर्देशक ने दी सफाई 

शेयर की जा रही तस्वीर में आप  पवनदीप राजन को खून से लथपथ देख सकते है। उनकी वर्दी पर खून लगा हुआ है । वहीं दूसरी तस्वीर में  वह फिल्म में अपनी कास्ट के साथ साथ एक गाड़ी पर बैठे दिखाई दे रहे हैं। पवनदीप राजन की इस तस्वीर को देख कर लोग हैरान है कि एक स्ट्रगल करने वाला सिंगर अचानक वेब सीरीज में कैसे पहुंच गया। 

इसे भी पढ़ें: फिल्म आदिपुरुष के लिए बाहुबली प्रभास ने बदला अपना लुक! नयी वीडियो पर डाले नजर 

1962: द वॉर इन द हिल्स एक भारतीय हिंदी भाषा की युद्ध ड्रामा स्ट्रीमिंग-टेलीविज़न श्रृंखला है, जिसका निर्देशन महेश मांजरेकर ने किया है, जिसमें अभय देओल मुख्य भूमिका में हैं। 26 फरवरी, 2021 को हॉटस्टार पर श्रृंखला का प्रीमियर हुआ।  श्रृंखला 1962 के भारत-चीन युद्ध से प्रेरित है। सीरीज में गालवान घाटी और रेजांग ला में लड़ी गई वास्तविक लड़ाइयों का एक काल्पनिक लेखा-जोखा दिखाया गया है, जहां भारतीय सेना के 125 सैनिकों को 3000 मजबूत पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के खिलाफ बचाव का काम सौंपा गया था। इसे आलोचकों से ज्यादातर नकारात्मक समीक्षा मिली, जिन्होंने इसके लंबे समय और दृश्य प्रभावों की आलोचना की।







This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept