Gandhi Godse Ek Yudh | राजकुमार संतोषी को मिली जान से मारने की धमकी, फिल्म को बैन करने की मांग कर रही हैं कांग्रेस

Rajkumar Santoshi
ANI
रेनू तिवारी । Jan 24, 2023 1:26PM
'गांधी गोडसे-एक युद्ध' की रिलीज से पहले फिल्म निर्माता राजकुमार संतोषी ने सोमवार को मुंबई के विशेष पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर अपने और अपने परिवार के लिए अतिरिक्त सुरक्षा का अनुरोध करते हुए दावा किया कि उन्हें बार-बार जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं।

फिल्म निर्माता राजकुमार संतोषी की फिल्म 'गांधी गोडसे-एक युद्ध' का ट्रेलर जब से रिलीज हुआ है तब से विवाद का केंद्र बना हुआ हैं। दरअसल हिंसा और अंहिसा के विचारों के टवराव की कहानी को पर्दे पर उतारने की कोशिश की गयी हैं। महात्म गांधी को गोडसे ने गोली मारी थी। इस लिए इस फिल्म में असल कहानी को हटा कर फिल्म की काल्पनिक कहानी में गोडसे और गांधी को आमने-सामने खड़ा कर दिया हैं। माना जा रहा है कि गोडसे को गलत समझने वालों को उनकी विचारधारा से अवगत कराने की फिल्म के द्वारा कोशिश की जा रही हैं। यह फिल्म एक राजनीतिक एजेंडा हैं। ऐसे में दोनों विचारों के समर्थक फिल्म का अपने अपने एंगल से समर्थन और विरोध कर रहे हैं। कुछ लोगों को ये काल्पनिक कहानी अच्छी नहीं लग रही हैं। इस लिए वह फिल्म निर्माता को धमका रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: Nora Fatehi को लेकर ठग Sukesh Chandrashekhar ने किए बड़े खुलासे, कहा- झूठी है नोरा फतेही, मेरी गर्लफ्रेंड जैकलीन से जलती थी...

'गांधी गोडसे-एक युद्ध' की रिलीज से पहले फिल्म निर्माता राजकुमार संतोषी ने सोमवार को मुंबई के विशेष पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर अपने और अपने परिवार के लिए अतिरिक्त सुरक्षा का अनुरोध करते हुए दावा किया कि उन्हें बार-बार जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं। निदेशक संतोषी ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में धमकी के आलोक में सुरक्षा की मांग करने की घोषणा की।

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी रैपर Doja Cat के लुक ने खींचा सभी का ध्यान, कोई कह रहा 'रेड चीली सॉस' तो कोई 'छोटा पंडित'

पत्र में लिखा है, "मैं, राजकुमार संतोषी, भारतीय फिल्म उद्योग में फिल्मों के एक प्रसिद्ध निर्देशक, 20 जनवरी को हमारी टीम द्वारा आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रुकावटों के बारे में आपको सूचित करने के लिए यह पत्र लिख रहा हूं। 2023 फिल्म 'गांधी बनाम गोडसे' की रिलीज के लिए तैयार है। मेरी टीम (फिल्म 'गांधी वी गोडसे' के लिए निर्देशक, निर्माता और कलाकार) प्रेस कॉन्फ्रेंस  कर रहे थे तब उसी  के बीच कुछ निहित स्वार्थ वाले लोगों के एक समूह ने इसे बाधित कर दिया। वे शाम 4 बजे अंधेरी के पीवीआर सिटी मॉल में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में वे घुस गए। बाद में, कुछ अज्ञात लोगों से कई धमकियां मिलीं, जिसमें उन्होंने मुझे इस फिल्म की रिलीज और प्रमोशन रोकने के लिए कहा। मैं असुरक्षित महसूस कर रहा हूं और मैं यह भी कहता हूं यदि ऐसे व्यक्तियों को मुक्त कर दिया जाता है और यदि आपके विज्ञापन-स्वयं द्वारा कोई कदम नहीं उठाया जाता है तो मुझे और मेरे परिवार के सदस्यों को गंभीर क्षति और चोट लग सकती है और इससे न केवल हमें बल्कि बड़े पैमाने पर जनता को नुकसान होगा। आप सभी आवश्यक लेने के लिए मैं इस मामले में कानून के तहत कदम उठा रहा हूं और आगे आपसे अनुरोध करता हूं कि आप मुझे और मेरे परिवार के अन्य सदस्यों की सुरक्षा के लिए तत्काल अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करें।"

 

1947-48 के स्वतंत्रता के बाद के भारत में स्थापित, 'गांधी गोडसे-एक युद्ध' में नाथूराम गोडसे और महात्मा गांधी के बीच विचारधाराओं के युद्ध को दर्शाया गया है। ट्रेलर ने भारत के विभाजन के बाद के उथल-पुथल भरे दौर की एक शक्तिशाली झलक दिखाई।

11 जनवरी को पीरियड ड्रामा फिल्म के ट्रेलर रिलीज के बाद कांग्रेस ने मध्य प्रदेश में फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। फिल्म के लिए उन्हें मिल रही आलोचना पर, संतोषी ने पहले एएनआई से कहा, "यह मेरे संज्ञान में आया है कि गांधीजी के अनुयायी होने का दावा करने वाले कुछ लोगों ने मेरे पुतले जलाए और यह भविष्य में भी हो सकता है। इससे मुझे हैरानी होती है क्योंकि जो लोग वास्तव में उन पर विश्वास करते हैं वे कभी भी हिंसा का सहारा नहीं लेंगे। वे कभी भी लाठी लेकर सड़कों पर नहीं उतरेंगे और पुतले नहीं जलाएंगे। यह केवल यह दर्शाता है कि वे वास्तव में गांधीवादी सिद्धांतों में विश्वास नहीं करते हैं। उन्होंने फिल्म देखी भी नहीं है और ट्रेलर पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इससे पता चलता है कि उनका मकसद कुछ और है।"

 

अन्य न्यूज़