• जब पाकिस्तान से होने वाला था युद्ध तो फौज में शामिल हो गये थे महाभारत के शकुनी मामा

रेनू तिवारी Apr 18, 2020 10:42

रामायण के बाद दूसरे नंबर पर महाभारत है जिसकी टीआरपी सबसे हाई है। इस समय रामायण महाभारत को दर्शक सबसे ज्यादा पसंग कर रहे हैं। इस लिए शो की कास्ट एक बार फिर चर्चा में है। महाभारत के महत्वपूर्ण किरदार शकुनी मामा महाभारत की महत्वपूर्ण कड़ी थे। इस किरदार को एक्टर गूफी पैंटल ने निभाया था।

कोरोना वायरस की वजह से देश में लॉकडाउन है ऐसे में दूरदर्शन ने चैनल पर मनोरंजन के लिए कई रामायण महाभारत सहित कई सारे पुराने धारावाहित शुरूकर दिए गये हैं। रामायण के बाद दूसरे नंबर पर महाभारत है जिसकी टीआरपी सबसे हाई है। इस समय रामायण महाभारत को दर्शक सबसे ज्यादा पसंग कर रहे हैं। इस लिए शो की कास्ट एक बार फिर चर्चा में है। महाभारत के महत्वपूर्ण किरदार शकुनी मामा महाभारत की महत्वपूर्ण कड़ी थे। इस किरदार को एक्टर गूफी पैंटल ने निभाया था। गूफी पैंटल को इस किरदार के बाद शकुमा मामा के नाम ले ही लोकप्रियता मिली। गूफी पैंटल ने एक्टिंग के अलावा डायरेक्शन में भी आपना हाथ आजमाया है।

इसे भी पढ़ें: भारतीय मूल की अमेरिकी गायिका ने डॉक्टरों के सम्मान में बनाया वीडियो सॉन्ग, देखें वीडियो

गूफी पैंटल ने अपने एक इंटरव्यू के दौरान अपनी जिंदगी का किस्सा सुनाया। ये किस्सा उसकी जिंदगी के वर्तनाम से जुड़ा हुआ था। उन्होंने कहा कि मैं बचपन से ही फौज में जाना चाहता था। या फिर अगर फौज मे मौका नहीं मिला तो एक्टर बनना चाहता था। लेकिन हमारे जमाने में ऐसा हमारी नहीं चलती थी घरवाले जो कहते थे उसी को पढ़ना पड़ता था। घरवालों ने इंजीनियरिंग करने के लिए जमदेशपुर भेज दिया। 

उस वक्त हमारे देश के रिश्ते पड़ोसी देश से खराब चल रहे थे। देश नया-नया आजाद हुआ था तो बचपन से ही देशभक्ति की बाते ही बताई गयी थी। अंदर देशभक्ति काफी भरी हुई थी। पाकिस्तान से युद्ध की संभावना थी इस लिए सरकार ने कहा कि सरकार से आवाज आई कि जितने जवान लड़के हैं वो फौज में भर्ती हो जाएं। हम करीब 60 लड़के थे जो टेरिटोरियल आर्मी का हिस्सा बन गए और वहां हम आर्टिलरी की ट्रेनिंग ली।

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन में घर के अंदर विराट कोहली पर चीखती दिखाई पड़ी अनुष्का शर्मा, कहा- ऐ कोहली... 

फौज में जाने का सपना तो पूरा होता दिख रहा था। इस दौरान कैंप में मेरे चाचा मुझे मिले वो वहां मेजर जनरल थे। बाद में वह लेफ्टिनेंट जनरल बने। उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम फौज में आना चाहते थे तो बताया क्यों नहीं? गूफी ने कहा पिता ने इंजिनीयरिंग करने के लिए बोल दिया था। इस लिए वहां एडमिशन लिया।