यात्रीगण ध्यान दें! यात्रा के दौरान फेस मास्क या शिल्ड नहीं पहनने पर हो सकती है कार्रवाई

यात्रीगण ध्यान दें! यात्रा के दौरान फेस मास्क या शिल्ड नहीं पहनने पर हो सकती है कार्रवाई

आने वाले दिनों में घरेलू उड़ानों और यात्रियों की संख्या बढ़ने की संभावना है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि कोलकाता आंशिक रूप से दिल्ली, मुंबई और चेन्नई सहित छह शहरों की उड़ानों को बहाल कर सकता है।

हवाई यात्रा के दौरान चेहरे पर फेस मास्क या शिल्ड नहीं लगाने पर यात्रियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल, डीजीसीए के महानिदेशक अरुण कुमार ने कहा है कि फ्लाइट में फेस मास्क या शील्ड लगाने से मना करने वालों को अब नो फ्लाई लिस्ट में रखा जा सकता है। हालांकि यात्रियों के खिलाफ यह कार्रवाई उनके व्यवहार पर भी निर्भर करेगा। अरुण कुमार ने कहा कि अब तक ऐसे मामले नहीं आए है। हालांकि इसमें यह भी कहा जा रहा है कि हमें ऐसे व्यक्तियों के बीच अंतर समझना चाहिए जो मास्क या शिल्ड पहनने से इंकार कर रहे है और जो पानी या खाने के लिए मास्क या शिल्ड चेहरे से हटाते है।

इसे भी पढ़ें: वंदे भारत मिशन के तहत 12 लाख भारतीय विदेश से लाए गए वापस

डीजीसीए के एक अधिकारी ने साफ तौर पर कहा कि नो फ्लाई लिस्ट एक्शन में उन लोगों को डाला जाएगा जो जानबूझकर मास्क नहीं पहन रहे और दूसरों को खतरे में डाल रहे है। डीजीसीए की तरफ से यह चेतावनी ऐसे समय में आई है जब घरेलू उड़ानों की शुरुआत हो रही है। इस सप्ताह 1 दिन में यात्रियों की संख्या एक लाख के आंकड़े को भी पार कर गया। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि एक दिन में 1,000 से ज्यादा विमानों और एयरपोर्ट पर दो लाख से ज्यादा यात्रियों की संख्या के साथ एक दिन में एक लाख से अधिक यात्रियों ने घरेलु उड़ानों से यात्रा की है। यानी सामान्य जनजीवन अब धीरे-धीरे पटरी पर आने लगा है। 

इसे भी पढ़ें: SpiceJet ने मालवाहक ए340 की पहली उड़ान पूरी की, बनीं कार्गो सेवा का परिचालन करने वाली पहली भारतीय कंपनी

आने वाले दिनों में घरेलू उड़ानों और यात्रियों की संख्या बढ़ने की संभावना है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि कोलकाता आंशिक रूप से दिल्ली, मुंबई और चेन्नई सहित छह शहरों की उड़ानों को बहाल कर सकता है। इतना ही नहीं, आने वाले दिनों में मुंबई और चेन्नई से दैनिक घरेलू उड़ानों की संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है। भारत वंदे भारत अभियान के तहत कुछ और देशों से अपने नागरिकों को वापस लाता रहेगा। इसके अलावा इसी अभियान के तहत कुछ देशों में अपने उड़ान भेज सकता है।