IDBI बैंक में हिस्सेदारी घटाने के लिए इरडा ने LIC से प्रस्ताव मांगा

irda-demand-proposal-to-lic-for-reducing-stake-in-idbi-bank
इरडा के चेयरमैन सुभाष चंद्र खूंटिया ने यहां फिक्की द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के मौके पर अलग से बातचीत में कहा, हम एलआईसी द्वारा आईडीबीआई बैंक में हिस्सेदारी घटाने की समयसीमा तय करेंगे।

नयी दिल्ली। भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने जीवन बीमा निगम (एलआईसी) से आईडीबीआई बैंक मेंअपनी हिस्सेदारी घटाने के लिए प्रस्ताव मांगा है। एलआईसी ने हल में आईडीबीआई बैंक में नियंत्रक हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था। इरडा के दिशानिर्देशों के अनुसार कोई भी बीमा कंपनी किसी सूचीबद्ध इकाई में 15 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी नहीं रख सकती। इरडा की ओर से विशेष व्यवस्था के तहत एलआईसी के पास कई सार्वज₨निक क्षेत्र के बैंकों में इस सीमा से अधिक की हिस्सेदारी है।

इसे भी पढ़ें: एक ही मंच से बैंकिंग और बीमा सेवाएं देने की IDBI बैंक की योजना 

इसके साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक किसी निजी क्षेत्र के बैंक में प्रवर्तक की हिस्सेदारी 15 प्रतिशत तक रखने की अनुमति देता है। इरडा के चेयरमैन सुभाष चंद्र खूंटिया ने यहां फिक्की द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के मौके पर अलग से बातचीत में कहा, ‘‘हम एलआईसी द्वारा आईडीबीआई बैंक में हिस्सेदारी घटाने की समयसीमा तय करेंगे। हम यह उन पर नहीं छोड़ रहे हैं। मैंने एलआईसी से इस बारे में प्रस्ताव देने को कहा है। उसके बाद हम इस पर फैसला करेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: पुलवामा शहीदों के परिवार की मदद के लिये IDBI मैराथन में पुश-अप करेंगे सचिन तेंदुलकर

पिछले साल जून में इरडा ने एलआईसी को कर्ज के बोझ से दबे आईडीबीआई बैंक में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने की अनुमति दी थी। एलआईसी ने इस अधिग्रहण के तहत 28 दिसं बर को आईडीबीआई बैंक में 14,500 करोड़ रुपये डाले थे। उसके बाद 21 जनवरी को उसने बैंक में 5,030 करोड़ रुपये और डाले। दिसंबर, 2018 को समाप्त तीसरी तिमाही में आईडीबीआई बैंक का घाटा तीन गुना होकर 4,185.48 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 1,524.31 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। 

तिमाही के दौरान बैंक की कुल आय घटकर 6,190.94 करोड़ रुपये पर आ गई, जो इससे एक साल पहले समान तिमाही में 7,125.20 करोड़ रुपये थी। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़