पटनायक ने केंदू पत्ता तोड़ने वालों के लिए पैकेज की घोषणा की, जीएसटी वापस लेने की मांग

Naveen Patnaik
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
पटनायक ने कहा कि विशेष पैकेज से केंदू पत्ता व्यापार से जुड़े लगभग आठ लाख पत्ता तोड़ने वाले, बांधने वाले और अन्य मौसमी कर्मचारियों को लाभ होगा।

ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बुधवार को केंदू पत्ता तोड़ने वालों और अन्य कर्मचारियों के लिए एक विशेष पैकेज पैकेज की घोषणा की। उन्होंने इस पत्ते के संग्रहण पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) को पूरी तरह से वापस लिये जाने की मांग की। इस पैकेज की घोषणा सत्तारूढ़ बीजद द्वारा केंदू पत्ते के व्यापार पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगाने को लेकर केंद्र की भाजपा नीत राजग सरकार की आलोचना करने के एक दिन बाद की गई।

पटनायक ने कहा कि विशेष पैकेज से केंदू पत्ता व्यापार से जुड़े लगभग आठ लाख पत्ता तोड़ने वाले, बांधने वाले और अन्य मौसमी कर्मचारियों को लाभ होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र ने केंदू के पत्ते के कारोबार पर 18 प्रतिशत का जीएसटी लगाया है. ‘‘मैंने पहले केंद्र सरकार से इसे हटाने का अनुरोध किया था और मैं फिर से जीएसटी को पूरी तरह से समाप्त करने की मांग उठा रहा हूं।’’ उन्होंने कहा कि पैकेज की घोषणा केंदू पत्ता तोड़ने वालों की विभिन्न समस्याओं को लेकर पिछले सप्ताह तीन दौर की चर्चा के बाद की गई है।

केंदू के पत्ते का उपयोग बीड़ी लपेटने के लिए किया जाता है और यह राज्य में सबसे महत्वपूर्ण गैर-लकड़ी वन उत्पादों में से एक है। इसे ओडिशा का हरा सोना कहा जाता है। मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि विशेष पैकेज के तहत पहले चरण में प्रत्येक केंदू पत्ता तोड़ने वाले को 1,000 रुपये और प्रत्येक सीजन के अनुसार काम करने वाले कर्मियों और ‘बाइंडर’ को 1,500 रुपये दिए जाएंगे। सभी केंदू पत्ते तोड़ने वालों और कर्मचारियों को बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना (बीएसकेवाई) के तहत अपने दायरे में लिया जाएगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़