कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के साथ विमानन कंपनियों की वित्तीय चुनौती बढ़ी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2020   10:20
कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के साथ विमानन कंपनियों की वित्तीय चुनौती बढ़ी

यूरोप और अमेरिकी में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी के साथ ही दुनिया भर की विमानन कंपनियों का वित्तीय परिदृश्य खराब हो रहा है।

वाशिंगटन। यूरोप और अमेरिकी में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी के साथ ही दुनिया भर की विमानन कंपनियों का वित्तीय परिदृश्य खराब हो रहा है। विमानन कंपनियों के एक संगठन ने कहा कि उद्योग को महामारी के चलते इस साल और अगले साल 157 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक का नुकसान होगा। इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन का यह पूर्वानुमान उसके द्वारा जून में जताए गए 100 अरब डॉलर के नुकसान के अनुमान से अधिक है। ताजा अनुमानों के मुताबिक विमानन कंपनियों को इस साल प्रति यात्री 66 डॉलर से अधिक का घाटा होगा।

इसे भी पढ़ें: मुंबई में नए साल में लक्जरी मकानों की मांग में सुधार, मूल्य में स्थिरता की संभावना  

हालांकि, व्यापार समूह को आगे तेजी से सुधार की उम्मीद है।उसने कहा कि कोविड-19 का टीका आने के बाद यात्रा बढ़ेगी, जिसके चलते विमानन कंपनियां 2021 की चौथी तिमाही से मुनाफे में आने लगेंगी। संगठन ने दुनिया भर की सरकारों से कहा है कि टीका आने का इंतजार करने की जगह, जो लोग वायरस से संक्रमित नहीं हैं, उन्हें यात्रा करने की इजाजत दी जाए।

इसे भी पढ़ें: मर्सडीज बेंज करेगी एसबीआई के साथ साझेदारी, आकर्षक’ ब्याज दरों पर देगी लोन

संघ के प्रमुख अलेक्जेंड्रे डी जूनियान ने कहा, ‘‘हम उस टीके का इंतजार नहीं कर सकते, जो 2021 के मध्य से पहले पूरी तरह उपलब्ध नहीं होगा।’’ उन्होंने कहा कि यात्रियों का कोविड-19 परीक्षण करने के बाद निगेटिव लोगों को हवाई यात्रा की अनुमति देनी चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।