धर्म के नाम पर दुर्व्यवहार करने वालों को मोहम्मद शमी का जवाब, 'ऐसे लोग सच्चे हिन्दुस्तानी नहीं हो सकते’

धर्म के नाम पर दुर्व्यवहार करने वालों को मोहम्मद शमी का जवाब, 'ऐसे लोग सच्चे हिन्दुस्तानी नहीं हो सकते’

दुबई में बाबर आज़म के नेतृत्व वाली पाकिस्तानी टीम 10 विकेट की जीत के बाद, शमी को धर्म के आधार पर ऑनलाइन दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ा क्योंकि भारत इतिहास में पहली बार अपने पड़ोसियों से विश्व कप का खेल हार गया था।

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने 2021 में हुए पुरुष टी 20 विश्व कप में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से भारत की हार के बाद सोशल मीडिया पर अपने साथ हुई गाली पर अपनी चुप्पी तोड़ी। टी20 विश्व कप में भारत पाकिस्तान ने बुरी तरह 10 किकेट से हारा था कोई भी गेंदबाज पाकिस्तान का एक भी विकेट नहीं ले पाया था वहीं मोहम्मद शमी की गेंद पर चौके-छक्कों की बाबर आजम और रिजवान ने बारिश की थी। फैंस मोहम्मद शमी से काफी नाराज हुए थे और उन्हें उनकी गेंदबाजी के कारण काफी ट्रोल भी किया गया था।मोहम्मद शमी और उनके समुदाय के लिए काफी गलत शब्दों का सोशल मीडिया पर प्रयोग हुआ था। मोहम्मद शमी के समर्थन में क्रिकेट जगत आ गया था। सभी ने ट्रोल करने वाले लोगों पर शर्मिंदगी जताई थी।

इसे भी पढ़ें: विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहती हैं साध्वी निरंजन ज्योति! तीखे बयानों से तिलमिलाए विरोधियों ने चलाई थी गोली

दुबई में बाबर आज़म के नेतृत्व वाली पाकिस्तानी टीम 10 विकेट की जीत के बाद, शमी को धर्म के आधार पर ऑनलाइन दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ा क्योंकि भारत इतिहास में पहली बार अपने पड़ोसियों से विश्व कप का खेल हार गया था। शमी को मिले घृणित संदेशों के बाद, सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग और वीवीएस लक्ष्मण सहित भारतीय क्रिकेट बिरादरी के विभिन्न दिग्गज उनके समर्थन में आए। विराट कोहली, जो वैश्विक आयोजन के दौरान भारतीय कप्तान थे, ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सोशल मीडिया पर शमी को अपशब्द कहने वालों का खंडन किया।

 

इसे भी पढ़ें: संजय राउत ने किया केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ PMO को सबूत सौंपना का दावा, कहा- खेल अभी शुरू हुआ है

 

अनुभव के बारे में बात करते हुए, शमी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि ट्रोलर्स न तो असली प्रशंसक हैं और न ही असली भारतीय और दावा किया कि वह इस तरह की टिप्पणियों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं। इस तरह की सोच का कोई इलाज नहीं है। (धर्म पर) ट्रोल करने वाले न तो असली प्रशंसक हैं और न ही असली भारतीय। यदि आप किसी खिलाड़ी को हीरो मानते हैं और फिर इस तरह का व्यवहार करते हैं, तो आप भारतीय समर्थक नहीं हैं। और मुझे लगता है कि ऐसे लोगों द्वारा की गई टिप्पणियों से किसी को आहत नहीं होना चाहिए।

 

शमी ने आगे कहा कि “मेरे दिमाग में बस एक ही बात चल रही थी। अगर मैं किसी को अपना आदर्श मानता हूं, तो मैं उस व्यक्ति के बारे में कभी भी बुरा नहीं बोलूंगा। और अगर कोई मुझे आहत करने वाली बात कह रहा है, तो वह मेरा प्रशंसक या भारतीय टीम का प्रशंसक नहीं हो सकता। इसलिए वास्तव में, मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह क्या कहते हैं, शमी ने आगे बताया कि इस तरह की टिप्पणियां लोगों की मानसिकता और निम्न स्तर की शिक्षा को दर्शाती हैं और कहा कि उन्हें यह साबित करने की आवश्यकता नहीं है कि देश उनके लिए क्या मायने रखता है।