गणतंत्र बना बारबाडोस, 400 साल बाद ब्रिटिश शासन से हुआ मुक्त, सांद्रा मसोन बनीं पहली राष्ट्रपति

गणतंत्र बना बारबाडोस, 400 साल बाद ब्रिटिश शासन से हुआ मुक्त, सांद्रा मसोन बनीं पहली राष्ट्रपति

सांद्रा मसोन को देश की पहली राष्ट्रपति बनाया गया। बारबाडोस के एक गणतंत्र में तब्दील होने के अवसर पर आयोजित समारोह की शुरुआत सोमवार देर रात में हुई जिसमें ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स सहित कई नेताओं और गणमान्य व्यक्तियों ने हिस्सा लिया।

कैरेबियाई देश बारबाडोस अब ब्रिटिश शासन से मुक्त हो गया है। अब वह नया गणतंत्र देश बन गया है। सोमवार की देर रात ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय को अपने राष्ट्र के प्रमुख के रूप में त्याग दिया और खुद को एक नया गणतंत्र घोषित किया। हालांकि, बारबाडोस अब भी 54 कॉमनवेल्थ देशों में गिना जाएगा लेकिन यहां ब्रिटेन की महारानी का शासन नहीं होगा। गणतंत्र मिलने के साथ ही बारबाडोस की जनता आधी रात को सड़कों पर आ गई और आजादी का जश्न मनाने लगी। देश में पहली बार राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई गई। सांद्रा मसोन को देश की पहली राष्ट्रपति बनाया गया। बारबाडोस के एक गणतंत्र में तब्दील होने के अवसर पर आयोजित समारोह की शुरुआत सोमवार देर रात में हुई जिसमें ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स सहित कई नेताओं और गणमान्य व्यक्तियों ने हिस्सा लिया। 

इसे भी पढ़ें: भारत के लिए अमेरिका ज्‍यादा उपयोगी है या रूस ज्‍यादा अहम, एक शीतयुद्ध से सहयोगी और दूसरा इंडो-पैसिफिक पार्टनर

वर्तमान में देखें तो ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय 15 देशों के राष्ट्राध्यक्ष इनमें यूनाइटेड किंगडम के अलावा ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जमैका जैसे देश शामिल हैं। वहीं दूसरी ओर बारबाडोस ने महारानी को राष्ट्राध्यक्ष के पद से हटाकर एक नई शुरुआत की है। बारबाडोस ने खुद को गुलामी के दर्दनाक यातनाओं और जंजीरों से आजाद कर एक नए गणतंत्र के रूप में स्थापित करने का नया संकल्प लिया है। उसके इस संकल्प की सबसे बड़ी ताकत वहां की जनता है जो खुद के लिए नया रास्ता बनाने को उत्साहित है। आजादी के ऐलान के बाद देश अपने परंपरागत नृत्य और संगीत में डूब गया। लोगों में जबरदस्त तरीके का उत्साह था। लोग एक दूसरे को बधाई संदेश देने लगे। गणराज्य बनने के साथ ही राजधानी हीरोज स्क्वायर पर राष्ट्रगान बजाया गया और 21 तोपों की सलामी दी गई। 

इसे भी पढ़ें: ओमीक्रोन: ब्राजील में दो मामले, लातिन अमेरिका में भी सामने आया एक मामला

इस समारोह का आयोजन उस लोकप्रिय चौक पर हुआ जहां पिछले साल एक ब्रिटिश लॉर्ड की प्रतिमा हटायी गई थी। इस अवसर पर रात में जमकर आतिशबाजी की गई। पूरे द्वीप में स्क्रीन लगाई गई थी ताकि लोग उस घटना को देख सकें जिसमें कई कलाकारों के साथ एक ऑर्केस्ट्रा का आयोजन किया गया। इसे ऑनलाइन भी प्रसारित किया गया, जिससे अमेरिका, कनाडा और उसके बाहर रहने वाले बोरबाडोस के नागरिकों ने उत्साह में संदेश पोस्ट किये। एक दर्शक ने लिखा, ‘‘सभी को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।’’ गणतंत्र बनने का अभियान दो दशक से भी अधिक समय पहले शुरू हुआ था और इसका समापन द्वीप की संसद द्वारा पिछले महीने दो-तिहाई बहुमत से अपना पहला राष्ट्रपति चुने जाने के साथ हुआ।