नेपाल में बड़ा सियासी संकट! पार्टी से निकाले गए केपी शर्मा ओली

नेपाल में बड़ा सियासी संकट! पार्टी से निकाले गए केपी शर्मा ओली

केपी शर्मा ओली को नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया है। लोग ओली की ओर से पिछले साल 20 दिसबंर को संसद को भंग किए जाने के फैसले से नाराज थे। कम्युनिस्ट पार्टी की सेंट्रल कमेटी की बैठक में ये फैसला लिया गया।

लगातार भारत विरोधी बयान देने वाले और चीन के हाथों का खिलौना बनते दिख रहे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को बड़ा झटका लगा है। ओली को उन्हीं की पार्टी ने बर्खास्त कर दिया है। विरोधी गुट के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने महीने में दूसरी बार सड़कों पर उतरकर ओली के खिलाफ प्रदर्शन किया। लोग ओली की ओर से पिछले साल 20 दिसबंर को संसद को भंग किए जाने के फैसले से नाराज थे। कम्युनिस्ट पार्टी की सेंट्रल कमेटी की बैठक में ये फैसला लिया गया। 

इसे भी पढ़ें: भारत ने नेपाल और बांग्‍लादेश को भेजे कोविड-19 टीके के 30 लाख डोज

नेपाल के पीएम ओली ने संसद को भंग करते हुए अप्रैल-मई में चुनाव कराने की घोषणा की है। ओली के इस फैसले पर राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने मुहर लगाई थी।नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अपने धड़े को सबंधित करते हुए पुष्प कमल दहल प्रचंड ने कहा कि प्रधानमंत्री ओली की ओर से संसद को अवैध ढंग से भंग किए जाने से कठिन परिस्थितियों में पाई गई संघीय लोकतांत्रिक गणराज्य प्रणाली को गंभीर खतरा पैदा हुआ है।