कोरोना को लेकर रिपोर्ट में सामने आया चौंका देने वाला खुलासा, चिकनपॉक्स की तरह फैलता है डेल्टा वेरिएंट

कोरोना को लेकर रिपोर्ट में सामने आया चौंका देने वाला खुलासा, चिकनपॉक्स की तरह फैलता है डेल्टा वेरिएंट

अमेरिका सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना के डेल्टा वेरिएंट पहली बार भारत में देखा गया था। यह वेरिएंट कोरोना वैक्सीन ले चुके लोगों से बिल्कुल उसी तरह से फैल सकता है जैसे कि बिना वैक्सीन लिए हुए लोगों से फैलने का खतरा है।

नयी दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी ने भारत समेत दुनिया के तकरीबन हर एक देश में हाहाकार मचाया हुआ है। चीन के वुहान शहर से फैलने वाले इस वायरस ने कई बार अपने प्रकार में बदलाव किया है। लेकिन कोरोना संक्रमण का डेल्टा वेरिएंट सबसे ज्यादा घातक बताया जा रहा है। क्योंकि डेल्टा वेरिएंट चिकन पॉक्स यानि की चेचक की तरह आसानी से फैल सकता है। 

इसे भी पढ़ें: एशिया के सबसे बड़े स्लम एरिया धारावी में एक लाख निवासियों को लगेगा टीका 

अमेरिका सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना के डेल्टा वेरिएंट पहली बार भारत में देखा गया था। यह वेरिएंट कोरोना वैक्सीन ले चुके लोगों से बिल्कुल उसी तरह से फैल सकता है जैसे कि बिना वैक्सीन लिए हुए लोगों से फैलने का खतरा है। सीडीसी के निदेशक डॉक्टर रोशेल पी वालेंस्की ने बताया कि वैक्सीन ले चुके और नहीं ले चुके लोगों से एक ही स्पीड में संक्रमण फैलने का खतरा है।

अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने इस खबर को प्रकाशित किया है। जिसके मुताबिक सीडीसी के निदेशक डॉक्टर रोशेल पी वालेंस्की ने बताया कि वैक्सीनेट हो चुके लोगों के नाक और गले में उसी मात्रा में डेल्टा वेरिएंट होंगे जितने बगैर वैक्सीन लिए हुए लोगों में मौजूद होते हैं। ऐसे में दोनों ही एक ही स्पीड के साथ लोगों को संक्रमित कर सकते हैं। हालांकि आंतरिक रिपोर्ट वेरिएंट के व्यापक और इससे भी गंभीर दृश्य की रूपरेखा तैयार करता है।

रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस संक्रमण का डेल्ट वेरिएंट मर्स, सार्स, इबोला, सामान्य सर्दी, मौसमी फ्लू और स्मालपॉक्स की तुलना में ज्यादा तेजी से फैलता है। हालांकि, यह चिकनपॉक्स की तरह संक्रामक है। 

इसे भी पढ़ें: ओलंपिक में बढ़ रहे कोरोना के मामले, आपात स्थिति बढ़ायेगा जापान सरकार 

रिपोर्ट में कहा गया है कि एजेंसी तो तत्काल यह स्वीकार करना चाहिए कि 'अब युद्ध बदल गया है'। इस अध्ययन से परिचित एक अधिकारी ने उम्मीद जताई कि एजेंसी डेल्टा वेरिएंट पर अतिरिक्त डेटा प्रकाशित कर सकती है। अधिकारी के मुताबिक सीडीसी आने वाले डेटा को लेकर काफी चिंतित है। डेल्टा वेरिएंट बहुत बड़ा खतरा है जिसके लिए त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता है।

आपको बता दें कि दुनियाभर में एक बार फिर से कोरोना वायरस अपने पैर पसार रहा है और जो भी मामले सामने आ रहे हैं वो डेल्टा वेरिएंट से संबंधित हैं। रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में रोजाना औसतन 71 हजार नए मामले सामने आ रहे हैं। डेटा बताता है कि कोरोना वैक्सीन ले चुके लोग संक्रमण को फैला रहे हैं। हालांकि वैक्सीन नहीं लेने वालों की तुलना में यह कम है।

रिपोर्ट में दी गई जानकारी के आधार पर एजेंसियों ने वैक्सीनेट हो चुके लोगों के मास्क पहनने से जुड़े दिशा-निर्देश जारी किए हैं।