डोनाल्ड ट्रंप ने वेनेजुएला सेना से कहा कि जुआन गुइदो का समर्थन करें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 19, 2019   11:46
डोनाल्ड ट्रंप ने वेनेजुएला सेना से कहा कि जुआन गुइदो का समर्थन करें

मादुरो सरकार को देश में सहायता सामग्री पहुंचने देने के लिए शनिवार तक का समय दिया है। ये सामग्रियां मुख्यत: अमेरिका की ओर से मुहैया कराई जा रही हैं। वेनेजुएला बेलगाम मुद्रास्फीति और भोजन एवं दवाओं की किल्लत के चलते मानवीय संकट की गिरफ्त में है।

मियामी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वेनेजुएला की सेना से विपक्षी नेता जुआन गुइदो की क्षमादान पेशकश को स्वीकार करने या “सब कुछ खोने” के लिए तैयार रहने की अपील की है। राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के अत्यंत आवश्यक मानवीय सहायता लेने से इनकार करने के बाद वेनेजुएला में संकट गहरा गया है। मानवीय सहायता जुटा पाना गुइदो की स्वीकार्यता को बरकरार रखने के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है। गुइदो ने पिछले साल मादुरो के पुन:निर्वाचन को फर्जी बताया था और जनवरी में खुद को अंतरिम राष्ट्रपति घोषित कर दिया। उनके इस कदम को करीब 50 देशों ने मान्यता दी थी।

इसे भी पढ़ें- जाधव मामले में पाक का दावा, भारत ने नहीं दिए प्रमुख सवालों के जवाब

उन्होंने मादुरो सरकार को देश में सहायता सामग्री पहुंचने देने के लिए शनिवार तक का समय दिया है। ये सामग्रियां मुख्यत: अमेरिका की ओर से मुहैया कराई जा रही हैं। वेनेजुएला बेलगाम मुद्रास्फीति और भोजन एवं दवाओं की किल्लत के चलते मानवीय संकट की गिरफ्त में है। मियामी में वेनेजुएला के निर्वासितों एवं समर्थकों से सोमवार को ट्रंप ने कहा कि मादुरो को उनके पद पर कायम रखने वाले अधिकारियों के लिए उनके पास एक संदेश है। उन्होंने कहा, ‘‘आज, हर रोज और भविष्य में आने वाले हर दिन विश्व भर की नजरें आप पर होंगी।” 

इसे भी पढ़ें- बलूचिस्तान में आतंकवादियों ने पाकिस्तान के छह सैनिकों की गोली मारकर की हत्या

ट्रंप ने कहा, “आप उस विकल्प से बच नहीं सकते जो अब आपके सामने है। आप अपने परिवार एवं देशवासियों के साथ शांति से जीवन जीने के लिए राष्ट्रपति गुइदो के माफी के उदार प्रस्ताव को स्वीकार कर सकते हैं। या फिर आप दूसरा रास्ता चुन सकते हैं : मादुरो को समर्थन देना जारी रख सकते हैं। अगर आप यह रास्ता चुनते हैं तो आपको कोई सुरक्षित आश्रय नहीं मिलेगा, न आसान निकास और न बाहर आने का रास्ता। आप सबकुछ खो देंगे।’’गुइदो ने यह सहायता प्राप्त करने के लिए 10 लाख स्वयंसेवियों को तैयार करने का लक्ष्य रखा है जिसमें से 6,00,000 पहले ही पंजीकृत हो चुके हैं। मादुरो ने भोजन सामग्रियों को खराब हो चुकी एवं संक्रमित बताकर यह मानवीय सहायता लेने से इनकार किया है। उन्होंने देश में उत्पन्न भोजन एवं दवाईयों की किल्लत के लिए अमेरिकी प्रतिबंधों को जिम्मेदार ठहराया है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।