G20 शिखर सम्मेलन के लिए रवाना हुए डोनाल्ड ट्रंप, मोदी, शी और पुतिन से करेंगे मुलाकात

g20-trump-to-meet-narendra-modi-xi-jinping-vladmit-putin-in-japan
हम विभिन्न देशों के नेताओं के साथ मुलाकात करने वाले हैं जिनमें से कई अमेरिका का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अब बहुत ज्यादा ऐसा नहीं होने वाला है, और बहुत जल्द कुछ भी ऐसा नहीं होने वाला है।

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जापान के ओसाका में होने जा रहे जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए व्हाइट हाउस से बुधवार को रवाना हुए। यहां वह विश्व की शीर्ष 20 अर्थव्यवस्था के नेताओं के साथ कई द्विपक्षीय एवं वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे। ट्रंप ने व्हाइट हाउस के साउथ लॉन्स में संवाददाताओं से कहा कि मैं जापान के ओसाका के लिए रवाना हो रहा हूं। हम विभिन्न देशों के नेताओं के साथ मुलाकात करने वाले हैं जिनमें से कई अमेरिका का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अब बहुत ज्यादा ऐसा नहीं होने वाला है, और बहुत जल्द कुछ भी ऐसा नहीं होने वाला है।

इसे भी पढ़ें: जी-20 सम्मेलन में भाग लेने जापान पहुंचे PM, स्वागत में लगे मोदी-मोदी के नारे

अमेरिकी राष्ट्रपति जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा चीनी एवं रूसी समकक्षों शी चिनफिंग और व्लादिमीर पुतिन से भी मुलाकात करेंगे। व्हाइट हाउस ने कहा है कि ट्रंप और मोदी के बीच 28 जून को द्विपक्षीय बैठक होगी। शुक्रवार को इससे पहले वह सुबह साढ़े आठ बजे (स्थानीय समयानुसार) जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे से मुलाकात करेंगे। इसके बाद सुबह सवा नौ बजे त्रिपक्षीय बैठक के लिए आबे और ट्रंप के साथ मोदी भी इसमें शामिल होंगे। 

इसे भी पढ़ें: डोनाल्ड ट्रंप बोले, किम से बिना मिले भी कर सकता हूं बात

व्हाइट हाउस के मुताबिक ट्रंप और मोदी के बीच द्विपक्षीय बैठक सुबह नौ बजकर 35 मिनट पर शुरू होनी है। इसके बाद सवा दस बजे ट्रंप जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल के साथ मुलाकात करेंगे। वह दोपहर में रूसी एवं ब्राजीली राष्ट्रपतियों से भी मुलाकात करेंगे। मोदी को चुनाव में मिली हालिया जीत के बाद ट्रंप के साथ यह उनकी पहली मुलाकात होगी। इससे ठीक पहले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने भारत का दौरा किया और इस दौरान वह मोदी, विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल से मिले। ट्रंप और मोदी के बीच होने वाली मुलाकात व्यापार एवं आर्थिक मुद्दों के चलते द्विपक्षीय संबंधों में पनपे तनाव को देखते हुए अहम मानी जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: धार्मिक स्वतंत्रता के पक्ष में मजबूती से बोलना चाहिए: पोम्पिओ

व्हाइट हाउस के साउथ लॉन्स में मीडिया के साथ बातचीत में ट्रंप ने भारत का उल्लेख नहीं किया था। वहीं दूसरी तरफ ट्रंप ने आगाह किया कि वह चीन पर नये व्यापार शुल्क लगा सकते हैं और साथ ही अमेरिका के कुछ करीबी सहयोगियों पर मुफ्तखोरी का आरोप भी लगाया। उन्होंने घोषणा की कि चीन के साथ व्यापार युद्ध को लेकर उनका रुख सख्त ही रहने वाला है और शनिवार को राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ मुलाकात के दौरान भी इसमें कोई ढिलाई नहीं बरती जाएगी। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़