आईएईए के अधिकारी जल्द कर सकते हैं जपोरिजिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र का दौरा

Zaporizhzhia
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के अधिकारी अस्थायी रूप से बंद हो गये जपोरिजिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र का जल्द ही दौरा कर सकते हैं। बीती रात इस इलाके में और गोलाबारी हुई। यूक्रेन के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

कीव, 27 अगस्त (एपी)। अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के अधिकारी अस्थायी रूप से बंद हो गये जपोरिजिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र का जल्द ही दौरा कर सकते हैं। बीती रात इस इलाके में और गोलाबारी हुई। यूक्रेन के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र की एक ‘ट्रांसमिशन लाइन’ आग से नष्ट होने के कारण बृहस्पतिवार को क्षेत्र में बिजली नहीं थी और देश में परमाणु हादसा होने का खतरा बढ़ गया। गौरतलब है कि देश में 1986 में हुआ चेर्नोबिल परमाणु हादसा अब भी लोगों को डरा रहा है।

जपोरिजिया में रूस के अधिकारियों ने इस आग के लिए यूक्रेन को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने शक्रवार को कहा कि संयंत्र सामान्य रूप से काम कर रहा था, लेकिन इस समस्या के कारण यह संयंत्र केवल रूस के कब्जे वाले इलाकों में बिजली की आपूर्ति कर रहा है न कि बाकी के यूक्रेन में। बहरहाल, यूक्रेन के बिजली ट्रांसमिशन ऑपरेटर यूक्रेनर्गो ने शुक्रवार को कहा कि जपोरिजिया संयंत्र को बिजली की आपूर्ति कर रही दो मुख्य लाइनों को बहाल कर लिया गया है।

ये रूस की बमबारी में क्षतिग्रस्त हो गयी थीं। कंपनी ने एक बयान में कहा कि उसका मरम्मत दल अन्य मुख्य लाइन को बहाल करने का काम भी जल्द पूरा कर लेगा, जिससे संयंत्र की सुरक्षा मजबूत होगी। यूक्रेन के परमाणु संयंत्र के संचालक एनर्गोएटम ने शुक्रवार सुबह कहा था कि संयंत्र की सभी बिजली इकाइयों का संपर्क पावर ग्रिड से टूट गया है और मरम्मत का काम चल रहा है। दोपहर दो बजे तक उसने बताया कि संयंत्र को पावर ग्रिड से फिर से जोड़ दिया गया है और यह ‘‘यूक्रेन की आवश्यकताओं के लिए’’ बिजली मुहैया करा रहा है।

अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के प्रमुख राफेल मारियानो ग्रॉसी ने बृहस्पतिवार को कहा था कि उन्हें कुछ दिनों के भीतर संयंत्र में एक दल भेजने की उम्मीद है। यह दल संयंत्र तक कैसे पहुंचेगा, इसे लेकर बातचीत जटिल है लेकिन आगे बढ़ रही है। संयंत्र को लेकर यूरोपीय देशों में चिंता पैदा हो गयी है। फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों ने कहा, ‘‘परमाणु सुरक्षा को लेकर बड़ी चिंता पैदा हो गयी है और इसलिए मार्च के बाद से मैं अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के महानिदेशक के साथ बातचीत करता रहा हूं कि पहले चेर्नोबिल और अब जपोरिजिया की सुरक्षा के लिए हरसंभव कदम उठाया जाए।’’

यूक्रेन के ऊर्जा मंत्री की सलाहकार लाना जेरकल ने बृहस्पतिवार को मीडिया से कहा कि आईएईए का दल जपोरिजिया संयंत्र का दौरा करने वाला है, जिसके लिए तैयारी की जा रही है। यूक्रेन पर रूस के हमले के शुरुआती दिनों से ही इस संयंत्र पर रूसी सेनाओं का कब्जा है। जेरकल ने आरोप लगाया कि रूस, आईएईए के दल के दौरे को रोकना चाहता है। यूक्रेन ने आरोप लगाया कि मास्को की सेना ने संयंत्र को अपने कब्जे में रखा है और उसमें हथियार रखे जा रहे हैं तथा उसके आसपास से हमले किये जा रहे हैं।

वहीं, मास्को का आरोप है कि यूक्रेन संयंत्र पर लगातार हमले कर रहा है। इस बीच, यूक्रेन के अधिकारियों ने बताया कि संयंत्र के समीप एक इलाके में रातभर रूस ने बमबारी की जबकि रूस के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को फिर से यूक्रेनी सेना पर जपोरिजिया ऊर्जा संयंत्र में बमबारी करने का आरोप लगाया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़