एस जयशंकर और टोनी ब्लिंकन ने फोन पर की बातचीत, द्विपक्षीय संबंधों पर हुई चर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2021   08:49
एस जयशंकर और टोनी ब्लिंकन ने फोन पर की बातचीत, द्विपक्षीय संबंधों पर हुई चर्चा

अमेरिकी विदेश मंत्री टोनी ब्लिंकन ने ट्वीट किया कि मुझे खुशी है कि मैंने आज अपने अच्छे मित्र डॉ. एस जयशंकर से अमेरिका और भारत की प्राथमिकताओं पर चर्चा की। हमने अमेरिका और भारत के संबंधों की महत्ता की पुन: पुष्टि की।

वाशिंगटन। विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके अमेरिकी समकक्ष टोनी ब्लिंकन ने टेलीफोन पर बातचीत के दौरान भारत और अमेरिका के बीच मजबूत होती साझेदारी की पुन: पुष्टि की। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने शुक्रवार को बताया कि भारत और अमेरिका के मंत्रियों ने कोविड-19 टीकाकरण प्रयासों, क्षेत्रीय विकास, द्विपक्षीय संबंधों को और विस्तार देने के लिए उठाए जा सकने वाले कदमों तथा आपसी चिंता के अन्य मुद्दों पर चर्चा की। ब्लिंकन के इस सप्ताह की शुरुआत में कार्यभार संभालने के बाद दोनों देशों के मंत्रियों के बीच टेलीफोन पर हुई यह पहली बातचीत है। 

इसे भी पढ़ें: आतंकवाद की चुनौती पर वैश्विक सहमति बनाना प्राथमिकता होनी चाहिए: एस जयशंकर 

प्राइस ने कहा कि ब्लिंकन ने हिंद-प्रशांत में अमेरिका के निकट सहयोगी के रूप में भारत की भूमिका और क्षेत्रीय सहयोग को विस्तार देने के लिए मिलकर काम करने की महत्ता को रेखांकित किया। उन्होंने कहा, ‘‘दोनों ने वैश्विक परिवर्तनों के मद्देनजर निकट समन्वय के साथ काम करने पर सहमति जताई और जल्द से जल्द आमने-सामने मुलाकात करने की इच्छा व्यक्त की।’’ 

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर केंद्रीय मंत्रियों समेत प्रमुख हस्तियों ने अपनी बेटियों के साथ साझा कीं तस्वीरें 

ब्लिंकन ने ट्वीट किया, ‘‘मुझे खुशी है कि मैंने आज अपने अच्छे मित्र डॉ. एस जयशंकर से अमेरिका और भारत की प्राथमिकताओं पर चर्चा की। हमने अमेरिका और भारत के संबंधों की महत्ता की पुन: पुष्टि की। हमने नए अवसरों का बेहतर तरीके से लाभ उठाने और हिंद-प्रशांत एवं उससे परे भी साझा चुनौतियों से बेहतर तरीके से निपटने के तरीकों पर चर्चा की।’’ विदेश मंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद से ब्लिंकन ने कनाडा, मैक्सिको, जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, जापान, जर्मनी, फ्रांस, इजराइल और दक्षिण अफ्रीका समेत एक दर्जन से अधिक देशों में अपने समकक्षों से बात की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।