• अफगानिस्तान मसले पर जो बाइडेन का भाषण, कहा- सैनिकों को वापस लेने के फैसले पर कायम

निधि अविनाश Aug 17, 2021 08:35

तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपना पहला भाषण दिया। अपने भाषण में उन्होंने सबसे पहले कहा कि वह 15 मिनट के लंबे भाषण के दौरान अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस लेने के अपने फैसले के साथ खड़े हैं।

कुछ दिनों में ही तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्ज़ा कर लिया और देश की अशरफ गनी के नेतृत्व वाली सरकार भी गिर गई है और अब अफगानिस्तान के लोग दहशत में देश छोड़ने को मजबूर हो रहे है। 20 सालों से अफगानिस्तान में कैनेत रहे अमेरिकी सैनिक के वापस लौटने के बाद तालिबान ने अपने शक्ति प्रदर्शन से अफगानिस्तान की सत्ता पर भी कब्जा कर लिया है। इस बड़े फैसले से अमेरिका के राष्ट्रपति की काफी आलोचना हो रही है। तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपना पहला भाषण दिया। अपने भाषण में उन्होंने सबसे पहले कहा कि वह 15 मिनट के लंबे भाषण के दौरान अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस लेने के अपने फैसले के साथ खड़े हैं। 

मैं अपने फैसले पर पूरी तरह से खड़ा हूं: जो बाइडेन

अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति के बाद दुनिया भर से आलोचनाओं का सामना करते हुए, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि वह बीस साल बाद युद्धग्रस्त देश से अमेरिकी सैनिकों को वापस लेने के अपने फैसले पर कायम हैं। जो बाइडेन ने कहा कि उन्हें इस साल अमेरिकी सैनिकों को वापस लेने या "तीसरे दशक" युद्ध से लड़ने के लिए हजारों और सेवा सदस्यों को अफगानिस्तान में वापस भेजने के लिए पहले से बातचीत के समझौते पर टिके रहने के बीच चयन करना था।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन अफगानिस्तान की स्थिति पर आज रात देश को करेंगे संबोधित

उन्होंने कहा कि उन्हें तालिबान के साथ पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा किया गया सौदा विरासत में मिला था, जिसके अनुसार 1 मई के बाद अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना की रक्षा के लिए कोई युद्धविराम या समझौता नहीं हुआ था। बाइडेन ने कहा कि वह इस मुद्दे को पारित करने के बजाय वर्तमान आलोचना को स्वीकार करेंगे। उन्होंने कहा कि बीस वर्षों के बाद अमरीका के सबसे लंबे युद्ध को समाप्त करने का समय आ गया है और यह उनके देश के लिए सही निर्णय था।