2004 में इराक कैंप जेल में हुई थी बगदादी से मुलाकात, 2020 में बन गया ISIS का नया खलीफा

2004 में इराक कैंप जेल में हुई थी बगदादी से मुलाकात, 2020 में बन गया ISIS का नया खलीफा

द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, सल्‍बी को बगदादी की मौत के कुछ ही घंटों के भीतर नया सरगना चुन लिया गया था। वह बगदादी की ही तरह कट्टरपंथी आतंकी है। वह लंबे समय से आतंकी संगठन के साथ जुड़ा हुआ है। दरअसल, कुरैशी आतंकी संगठन के कुछ शीर्ष नेताओं की पसंद नहीं था।

बगदादी की मौत के बाद आईएसआईएस को नया चीफ मिल गया है। ब्रिटेन के अखबार ने एक बड़ा दावा किया है कि बगदादी का नया वारिश मिल गया है। अब मोहम्‍मद अब्‍दुल रहमान अल-मल्‍वी अल-सल्‍बी है आईएसआई का नया सरगना। दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी संगठन आईएसआईएस के पांच साल के दहशतगर्दी के खूनी खेल का अंत हो गया। आधी दुनिया में फैला आईएसआईएस का नेटवर्क अब खत्म हो जाएगा। ये वो सवाल थे जो बगदादी की मौत के बाद खड़े हो गए थे। लेकिन अब इन सवालों का जावब ब्रिटेन के अखबार 'द गार्जियन' की रिपोर्ट में सामने आया है। बगदादी के नए उत्तराधिकारी का नाम आमिर सल्‍बी है। इस रिपोर्ट में दो खुफिया एजेंसियों के अधिकारियों के हावले से सल्‍बी को आतंकी संगठन के संस्‍थापक सदस्‍यों में एक बताया है। सल्बी पर दुनिया के सबसे खतरनाक संगठन को चलाने की जिम्मेदारी है। 

इसे भी पढ़ें: ISIS का खूंखार आतंकी गिरफ्तार, जेल ले जाने के लिए बुलाना पड़ा मिनी ट्रक

द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, सल्‍बी को बगदादी की मौत के कुछ ही घंटों के भीतर नया सरगना चुन लिया गया था। वह बगदादी की ही तरह कट्टरपंथी आतंकी है। वह लंबे समय से आतंकी संगठन के साथ जुड़ा हुआ है। दरअसल, कुरैशी आतंकी संगठन के कुछ शीर्ष नेताओं की पसंद नहीं था।

इसे भी पढ़ें: 1953 का तख्तापलट, 1979 की क्रांति, ईरान-अमेरिका में दुश्मनी की पूरी कहानी

अमेरिका ने अबु बकर अल बगदादी को मौत के घाट उतारा जिसके बाद आईएसआईएस की कमान अबु हसन अल मुहाजिर को सौंपी गई जिसे अमेरिका ने मार डाला जिसके बाद अब जिम्मा मोहम्‍मद अब्‍दुल रहमान अल-मल्‍वी अल-सल्‍बी से है। 

कौन हैं ISIS का नया खलीफा

इसे भी पढ़ें: विदेशी दूतों को कश्मीर में स्वतंत्र आवाजाही की अनुमति दी जानी चाहिए: पाकिस्तान

आमिर सल्‍बी का जन्‍म ईराकी तुर्की परिवार में हुआ है। वह आईएसआईएस के गैर-अरबी शीर्ष नेताओं में एक है। उसने मोसुल विश्‍वविद्यालय से शरई में डिग्री हासिल की है। इस्‍लाम का बड़ा जानकार होने के कारण सल्बी संगठन में धीरे-धीरे प्रभावशाली होता गया। सल्‍बी ने आईएस के यजीदी अल्‍पसंख्‍यकों के नरसंहार को धार्मिक नियमों के तहीत जायज ठहराया। अंग्रेजी अखबार की माने तो अमेरिकी बलों ने उसे 2004 में दक्षिण इराक की कैंप बका जेल में हिरासत में रखा, जहां उसकी मुलाकात बगदादी से हुई।