दलाई लामा के चीन छोड़ने के 60 वर्ष पूरे होने के मौके पर चीन ने किया अपना बचाव

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 10 2019 1:54PM
दलाई लामा के चीन छोड़ने के 60 वर्ष पूरे होने के मौके पर चीन ने किया अपना बचाव
Image Source: Google

विदेश में रहने वाले कई तिब्बतियों का कहना है कि बीजिंग अपने फेायदे के लिए हिमालय क्षेत्र के संसाधनों का दुरुपयोग करता है और साथ ही तिब्बत की अनूठी बौद्ध संस्कृति भी नष्ट हो रही है।

बीजिंग।आध्यात्मिक नेता दलाई लामा के चीन छोड़ने के 60 वर्ष पूरे होने के मौके पर बीजिंग ने एक बार फिर तिब्बत पर अपनी नीतियों का बचाव किया है। आधिकारिक समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ ने एक लेख में इस दिन का सीधा जिक्र किए बिना कहा कि आर्थिक विकास, जीवन प्रत्याशा में वृद्धि और बेहतर शिक्षा आलोचकों के दावों का खंडन करती है। तिब्बत पर चीनी सुरक्षा व्यवस्था के तहत शासन किया जाता है। विदेश में रहने वाले कई तिब्बतियों का कहना है कि बीजिंग अपने फेायदे के लिए हिमालय क्षेत्र के संसाधनों का दुरुपयोग करता है और साथ ही तिब्बत की अनूठी बौद्ध संस्कृति भी नष्ट हो रही है।

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: तिब्बती लोगों की मजबूत इच्छाशक्ति का प्रतिनिधित्व करते हैं दलाई लामा: पेलोसी

शिन्हुआ ने कहा, ‘‘निर्विवाद तथ्य एवं आंकड़े’विकास से संबंधित बार-बार बोले गए झूठों और आरोपों को खारिज करते हैं जिसका उद्देश्य तिब्बत के मानवाधिकारों को घटिया लक्ष्यों के साथ कलंकित करना है। इस लेख में रविवार को दलाई लामा के चीन छोड़ने के 60 वर्ष पूरे होने के मौके का जिक्र नहीं किया गया। 1959 की घटनाओं का जिक्र करने के बजाय  लोकतांत्रिक सुधार  के बारे में बात की गई। गौरतलब है कि चीन दलाई लामा को एक अलगाववादी बताता है जो तिब्बत को चीन से अलग करना चाहते हैं, लेकिन 1989 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किए गए दलाई लामा का कहना है कि वह तिब्बतियों के लिए धार्मिक स्वतंत्रता और स्वायत्तता समेत अधिक अधिकार चाहते हैं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story