SCO Submit: पास बैठकर भी है दूरी, आतंकवाद का मुद्दा है मजबूरी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 22 2019 6:54PM
SCO Submit: पास बैठकर भी है दूरी, आतंकवाद का मुद्दा है मजबूरी
Image Source: Google

विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिये सुषमा स्वराज मंगलवार को किर्गिज गणराज्य की राजधानी पहुंचीं।

बिश्केक। भारत एवं पाकिस्तान के बीच संबंधों में तनाव के बीच विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी यहां बुधवार को आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में विदेश मंत्रियों की बहुपक्षीय बैठक के दौरान एक दूसरे के अगल-बगल बैठे नजर आये। स्वराज और कुरैशी ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक में हिस्सा लिया। रूस, चीन, किर्गिज गणराज्य, कजाकिस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपतियों ने 2001 में शंघाई में शिखर सम्मेलन में एससीओ की स्थापना की थी।

इसे भी पढ़ें: पर्यटन मंत्रालय की वेबसाइट पर रूसी भाषा में भी मिलेगी जानकारी : स्वराज

वर्ष 2005 तक भारत एससीओ का पर्यवेक्षक देश रहा और 2017 में पाकिस्तान के साथ उसे इसकी सदस्यता प्रदान की गयी। विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिये सुषमा स्वराज मंगलवार को किर्गिज गणराज्य की राजधानी पहुंचीं। पाकिस्तानी मीडिया की ओर से प्रकाशित तस्वीरों में अन्य विदेश मंत्रियों के साथ स्वराज और कुरैशी एक दूसरे के अगल-बगल बैठे नजर आ रहे हैं। एससीओ बैठक के लिये रवाना होने से पहले इस्लामाबाद में कुरैशी ने कहा था कि क्षेत्रीय मंच के उद्घाटन सत्र को संबोधित करने के अलावा वह अन्य देशों के अपने समकक्षों के साथ भी बैठक करेंगे। पाकिस्तान से संचालित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा पुलवामा में 14 फरवरी को किये गए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों की मौत के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था। लोगों में इसको लेकर आक्रोश के बीच भारतीय वायु सेना ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण शिविर को गत 26 फरवरी को निशाना बनाया था।

 


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video