सीनेट ने डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग सुनवाई के लिए नियम तय किए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2020   11:23
सीनेट ने डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग सुनवाई के लिए नियम तय किए

अमेरिकी कांग्रेस के उच्च सदन सीनेट ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग सुनवाई शुरू करते हुए नियमों को निर्धारित कर दिया। अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावोस में आयोजित वैश्विक आर्थिक मंच पर बुधवार को कहा कि ये बहुत ही महान मामला है।’’ वाशिंगटन लौटने से पहले ट्रम्प ने कहा कि उनकी कानूनी टीम बहुत बेहतर काम कर रही है।

वाशिंगटन। अमेरिकी कांग्रेस के उच्च सदन सीनेट ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग सुनवाई शुरू करते हुए नियमों को निर्धारित कर दिया। हालांकि, रिपब्लिकन सदस्यों ने शुरूआती जिरह को दो दिनों के भीतर पूरा करने की योजना को छोड़ दिया है लेकिन इसके साथ ही उन्होंने राष्ट्रपति के खिलाफ आरोपों का खुलासा करने के लिए और गवाहों को अपनी बात रखने की अनुमति देने की डेमोक्रेटिक पार्टी की मांग को भी खारिज कर दिया है। ट्रम्प ने स्वयं दावा किया है कि वह अपने शीर्ष सहयोगियों की गवाही चाहते हैं लेकिन उन्हें गवाही दिलाने की स्थिति में राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी चिंता के मद्देनजर इसे सीमित कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: सुरक्षा साझेदारी जारी रखने को सहमत हुए अमेरिका-इराक

अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावोस में आयोजित वैश्विक आर्थिक मंच पर बुधवार को कहा कि ये बहुत ही महान मामला है।’’ वाशिंगटन लौटने से पहले ट्रम्प ने कहा कि उनकी कानूनी टीम बहुत बेहतर काम कर रही है। ऐसा लगता है कि डेमोक्रेटिक प्रस्ताव को बाधित करने को लेकर राष्ट्रपति की राय रिपब्लिकन से अलग है। पार्टी गवाहों को बुलाने और दस्तावेजों को जल्द पेश करने के पक्ष में है। इसके उलट ट्रम्प ने कहा कि वह पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन, विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और कार्यवाहक चीफ ऑफ स्टॉफ माइक मुलवेने सहित अपने सहयोगियों की गवाही चाहते थे। हालांकि ट्रम्प ने कहा कि सीनेट में उनकी गवाही पर राष्ट्रीय सुरक्षा चिंता के कारण उन्होंने यह विचार छोड़ दिया। 

इसे भी पढ़ें: थनबर्ग से मिलना पसंद करते डोनाल्ड ट्रंप, बोले- सिर्फ US पर नहीं निकलना चाहिए था गुस्सा

सीनेट के नेता एवं रिपब्लिकन मिच मैक्कॉनेन और राष्ट्रपति की कानूनी टीम को मंगलवार को दिनभर चली सुनवाई से झटका लगा। लेकिन बुधवार देर रात दो बजे सुनवाई के नियमों को रिपब्लिकन पार्टी की शर्तों के अनुसार मंजूरी मिलने के साथ ही सदन की कार्यवाही का समापन हुआ। माना जा रहा है कि नियम निर्धारित होने से सुनवाई में तेजी आएगी। ट्रम्प के खिलाफ अपने पद का दुरुपयोग करते हुए यूक्रेन पर डेमोक्रेटिक नेता जो बाइडेन के बेटे हंटर बाइडेन के खिलाफ जांच के लिए दबाव बनाने और कांग्रेस की जांच को बाधित करने के आरोप पर सुनवाई होगी और इसी से यह तय होगा कि क्या उन्हें पद से हटाया जाए या नहीं ।

इसे भी पढ़ें: इमरान से मिलने के बाद ट्रंप ने अलापा कश्मीर राग,कहा- घटनाक्रम पर है करीबी नजर

मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स ने सदन के महाभियोजक और ट्रम्प की टीम के साथ सत्र की शुरुआत की और सीनेटर निष्पक्ष न्याय की शपथ के साथ अपने स्थानों पर बैठे। सुनवाई के दौरान मोबाइल फोन या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की इजाजत नहीं थी। सीनेट में दोनों पक्षों की तीखी बहस के बाद रॉबर्ट्स ने हस्तक्षेप किया और दुलर्भ घटना के तहत डेमोक्रेट के सदन प्रबंधक जो अभियोग पक्ष के हैं और व्हाइट हाउस के वकील की आलोचना करते हुए कहा कि ‘‘याद रखें कि कहां वे खड़े हैं।’’ सुनवाई के दौरान व्हाइट हाउस की ओर से पेश दस्तावेजों में डेमोक्रेटिक पार्टी के संशोधनों को रिपब्लिकन बहुमत वाले सीनेट ने 47 के मुकाबले 53 मतों से अस्वीकार कर दिया। केवल एक संशोधन में एक रिपब्लिकन सांसद ने डेमोक्रेटिक पार्टी का साथ दिया लेकिन यह भी 48 के मुकाबले 52 मतों से खारिज हो गया। सुनवाई के दौरान राष्ट्रपति के वरिष्ठ वकील पैट सिपोल्लोने ने सुनवाई को ‘‘तमाशा’’ करार दिया। 

इसे भी देखें- Donald Trump के खिलाफ क्यों चलाया जा रहा है महाभियोग, अब आगे क्या होगा





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...