संसदीय कार्यवाही के दौरान संसद में बच्चे को साथ लाने में लगा बैन, बताया नियमों के खिलाफ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2021   09:30
संसदीय कार्यवाही के दौरान संसद में बच्चे को साथ लाने में लगा बैन, बताया नियमों के खिलाफ

ब्रिटेन की संसद ने बच्चों को चैंबर में लाने संबंधी नियमों की समीक्षा की घोषणा की है।विपक्षी दल लेबर पार्टी की सांसद स्टेला क्रीजी को बताया गया था कि संसद परिसर के वेस्टमिंस्टर हॉल में बच्चे को बहस के दौरान लाना नियमों के खिलाफ है।

लंदन। ब्रिटेन में ‘हाउस ऑफ कॉमन्स’ के स्पीकर ने संसद चैंबर में बच्चों को लाने की अनुमति देने संबंधी नियमों की समीक्षा करने की बुधवार को घोषणा की। एक सांसद ने शिकायत की थी कि उन्हें तीन महीने के अपने बच्चे को सदन में ले जाने पर रोक दिया गया। विपक्षी दल लेबर पार्टी की सांसद स्टेला क्रीजी को बताया गया था कि संसद परिसर के वेस्टमिंस्टर हॉल में बच्चे को बहस के दौरान लाना नियमों के खिलाफ है। क्रीजी ने कहा कि उन्हें मंगलवार को एक परिचर्चा में अपने बेटेको लाने के बाद ‘हाउस ऑफ कॉमन्स’ की ओर से एक पत्र मिला।

इसे भी पढ़ें: आस्था व धर्म की स्वतंत्रता पर वैश्विक शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा ब्रिटेन

‘हाउस ऑफ कॉमन्स’के स्पीकर सर लिंडसे होयले ने कहा कि उन्होंने संसदीय संचालन समिति को नियमों की समीक्षा करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘नियमों को संदर्भ में देखा जाना चाहिए और वे समय के साथ बदलते रहते हैं।’’ होयले ने कहा, ‘‘इस सदन को पेशेवर रूप से और बिना किसी बाधा के कार्य करने में सक्षम होना चाहिए। हालांकि, कभी-कभी ऐसे अवसर भी हो सकते हैं जब अध्यक्ष यह मानते हुए विवेक का प्रयोग कर सकत है कि कार्यवाही में व्यवधान नहीं होना चाहिए।’’ क्रीजी ने कहा कि वह पहले अपने बेटे और उससे भी पहले बड़ी बेटी को बिना किसी परेशानी के संसद में ला चुकी थीं, लेकिन उन्हें बताया गया कि सितंबर में नियम बदले जा चुके हैं। अब सांसदों को सलाह दी गई है कि उन्हें बच्चों को अपने साथ नहीं लाना चाहिये। क्रीजी ने संसद के नियमों के बारे में ट्वीट किया और प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भी इस मुद्दे पर उनका समर्थन किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।