उत्तर प्रदेश में कोरोना से 13 और मौतें, दो मरीजों में पाई गई वायरस के नए स्वरूप की मौजूदगी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 31, 2020   09:48
उत्तर प्रदेश में कोरोना से 13 और मौतें, दो मरीजों में पाई गई वायरस के नए स्वरूप की मौजूदगी

स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में कोविड-19 संक्रमित 13 और मरीजों की मौत के साथ राज्य में इस वायरस से अब तक मरने वालों की संख्या बढ़कर 8352 हो गई है।

लखनऊ।  उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 संक्रमित 13 और लोगों की मौत हो गई तथा 1043 नए मरीजों में इस संक्रमण की पुष्टि की गई। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जानकारी दी। ब्रिटेन से उत्तर प्रदेश आए दो मरीजों में कोरोना वायरस के नए स्वरूप की मौजूदगी पाई गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में कोविड-19 संक्रमित 13 और मरीजों की मौत के साथ राज्य में इस वायरस से अब तक मरने वालों की संख्या बढ़कर 8352 हो गई है। इसमें कहा गया है किसबसे ज्यादा दो मौतें वाराणसी में हुई हैं।

इसके अलावा प्रयागराज, मेरठ, झांसी, सहारनपुर, गाजीपुर, सीतापुर, फर्रुखाबाद, हापुड़, बिजनौर, मैनपुरी तथा बांदा में कोविड-19 संक्रमित एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में 1043 ने मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है। वहीं, 1202 मरीज ठीक भी हुए हैं। सबसे ज्यादा 187 नए मरीजों का पता राजधानी लखनऊ में लगा है। इसके अलावा वाराणसी में 81, मेरठ में 73 तथा गौतम बुद्ध नगर में 45 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इस बीच, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने संवाददाताओं को बताया कि कोरोना वायरस के नए स्वरूप से संक्रमित दो मरीज़ मेरठ और गौतमबुद्ध नगर में पाए गए हैं। अब उनके संपर्क में आए लोगों की तलाश कर उनके सैंपल जुटाए जा रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के मद्देनजर पुडुचेरी में नये वर्ष के आयोजनों के खिलाफ किरन बेदी

उन्होंने बताया कि नौ दिसंबर के बाद ब्रिटेन से लौटे सभी लोगों के टेस्ट किए जा रहे हैं और अब तक करीब ढाई हजार नमूने जांच के लिए प्रयोगशालाओं में भेजे जा चुके हैं। अब तक ब्रिटेन से लौटे 10 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है और वायरस की एक किस्म का पता लगाने के लिए उनकी जीन सीक्वेंसिंग की जा रही है। प्रसाद ने बताया कि अगले महीने प्रयागराज में आयोजित होने वाले माघ मेले में तथा वृंदावन में संत समागम में हिस्सा लेने वाले लोगों को आरटी-पीसीआर नेगेटिव सर्टिफिकेट अपने साथ लाना होगा। इन दोनों आयोजनों के दौरान कोविड-19 प्रोटोकोल के सख्त अनुपालन के सिलसिले में शासनादेश जारी कर दिया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।