उत्तर प्रदेश में कोरोना से 13 और मरीजों की मौत, 959 नए मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2020   08:37
उत्तर प्रदेश में कोरोना से 13 और मरीजों की मौत, 959 नए मामले

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 पीड़ित 13 और लोगों की मौत होने से राज्य में इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 8,306 हो गई है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 पीड़ित 13 लोगों की मौत हो गई तथा 959 नए मरीजों में इस संक्रमण की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 पीड़ित 13 और लोगों की मौत होने से राज्य में इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 8,306 हो गई है। इस अवधि में सर्वाधिक तीन मौतें लखनऊ में हुईं जबकि वाराणसी में दो मरीजों की जान गई। रिपोर्ट के मुताबिक इस अवधि में राज्य में 959 नए मरीजों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की गई है। 

इसे भी पढ़ें: Unlock 5 के 88वें दिन भारत में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर हुई 2.78 लाख

वहीं, इसी दौरान 1,391 मरीज पूरी तरह ठीक भी हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक सबसे ज्यादा 199 नए मरीज राजधानी लखनऊ में सामने आए हैं। इसके अलावा मेरठ में 64, वाराणसी में 62 और गाजियाबाद में 45 नए मरीजों के कोविड-19 से पीड़ित होने की पुष्टि की गई है। इस बीच, राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ब्रिटेन, फ्रांस तथा अन्य देशों से प्रदेश आने वालों का पता लगाकर उनका आरटी-पीसीआर पद्धति से जांच करवाने के एक बार फिर निर्देश दिए हैं और ताकीद की है कि उन्हें पृथकवास में रखा जाए। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना के 757 नए मामले, 16 और मरीजों की मौत

उन्होंने कहा कि विदेश से आए लोगों की सूची बनाकर उनकी जांच सुनिश्चित कराई जाए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि जांच रिपोर्ट आने तक ऐसे व्यक्तियों को घर में ही किसी अलग स्थान पर रखा जाए। योगी ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 से सम्बन्धित आरटी-पी्सीआर व रैपिड एन्टीजन जांच पूरी क्षमता के साथ किए जाएं, कोरोना वायरस के नए स्वरूप के दृष्टिगत जांच के लिए नए उपकरण मंगा लिए जाएं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।