आधुनिक राजपथ पर होगी 2022 की गणतंत्र दिवस परेड, फरवरी 2021 से शुरू होगा काम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   20:17
आधुनिक राजपथ पर होगी 2022 की गणतंत्र दिवस परेड, फरवरी 2021 से शुरू होगा काम

मोदी सरकार ने लुटियन दिल्ली में राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक तीन किलोमीटर लंबे हिस्से के पुनर्विकास के लिए अपनी वृहद योजना का खुलासा पिछले सप्ताह किया था।

नयी दिल्ली। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना के तहत ऐतिहासिक राजपथ का नए सिरे से विकास कार्य 2021 की गणतंत्र दिवस परेड के बाद शुरू होगा। सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पुनर्विकास कार्य फरवरी 2021 से शुरू होने की उम्मीद है और ये नवंबर 2021 तक पूरा होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि 2022 में गणतंत्र दिवस की परेड “आधुनिक” राजपथ पर होगी। सूत्रों के मुताबिक पुनर्विकास योजना के तहत नवविकसित राजपथ पर दर्शकों को आकर्षित करने के लिए बिक्री क्षेत्र और अन्य सुविधाएं भी होंगी। 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार के न्यू इंडिया की नई तस्वीर, बदलेंगे संसद, राजपथ और सचिवालय जैसे सत्ता के प्रतीक

मोदी सरकार ने लुटियन दिल्ली में राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक तीन किलोमीटर लंबे हिस्से के पुनर्विकास के लिए अपनी वृहद योजना का खुलासा पिछले सप्ताह किया था। केंद्र सरकार ने दो सितंबर को “संसद भवन, साझा केंद्रीय सचिवालय और केंद्रीय वीथी के विकास और पुनर्विकास” के लिए अनुरोध प्रस्ताव जारी किया था। सूत्रों के मुताबिक इस महत्वाकांक्षी परियोजना को कार्यान्वित करने के लिए दीवाली से पहले एक वास्तुशास्त्र संबंधी फर्म का नाम तय कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया, “सरकार राजपथ का पुनर्विकास फरवरी 2022 में शुरू करेगी और काम नवंबर 2021 तक पूरा हो जाएगा। वर्ष 2022 की गणतंत्र दिवस परेड आधुनिक राजपथ पर होगी।” 

इसे भी पढ़ें: आजादी की 75वीं सालगिरह से पहले मंत्रियों की तरह सांसदों को भी मिलेगा संसद भवन में अलग कमरा

सूत्रों ने बताया कि योजना के मुताबिक नार्थ और साउथ ब्लॉक को भूकंपरोधी बनाया जाएगा। इन दोनों भवनों को संग्रहालय में बदला जा सकता है। इस सप्ताह केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि नए संसदभवन में मंत्री और सासंदों के लिए कार्यालय होंगे और हो सकता है कि इसका निर्माण 90 वर्ष पुराने भवन के बगल में किया जाए। सरकार इस विकल्प पर भी विचार कर रही है। मंत्री ने कहा कि वास्तुशास्त्र संबंधी फर्म द्वारा प्रारूप सौंपने के बाद ही इस बारे में अंतिम फैसला किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।