जिला ऊना के पात्र कामगारों को विभिन्न योजनाओं में 20.72 करोड़ की मदद दीः बिक्रम

जिला ऊना के पात्र कामगारों को विभिन्न योजनाओं में 20.72 करोड़ की मदद दीः बिक्रम

कार्यक्रम में उद्योग, श्रम एवं रोजगार व परिवहन मंत्री विक्रम सिंह ने कहा कि जनमंच जय राम सरकार की महत्वकांक्षी योजना है, जिसका उद्देश्य गांव में जाकर मौके पर लोगों की जन शिकायतों का निपटारा करना है। उन्होंने कहा कि अधिकारी अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति चिंता करें तथा लोगों की समस्या का त्वरित निपटारा करें।

ऊना गगरेट विस क्षेत्र के मुबारिकपुर में  जनमंच कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसकी अध्यक्षता उद्योग, परिवहन एवं श्रम व रोजगार मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर ने की। जनमंच में कुल 72 जनसमस्याओं की सुनवाई हुई। इनमें से 43 जनमस्याएं चयनित 10 ग्राम पंचायतों से संबंधित रही, जबकि 20 क्लस्टर पंचायतों से बाहर की रहीं। नौ जन समस्याएं प्री-जनमंच में प्राप्त हुईं।

 

कार्यक्रम में उद्योग, श्रम एवं रोजगार व परिवहन मंत्री विक्रम सिंह ने कहा कि जनमंच जय राम सरकार की महत्वकांक्षी योजना है, जिसका उद्देश्य गांव में जाकर मौके पर लोगों की जन शिकायतों का निपटारा करना है। उन्होंने कहा कि अधिकारी अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति चिंता करें तथा लोगों की समस्या का त्वरित निपटारा करें। 

इसे भी पढ़ें: समस्याओं का त्वरित समाधान ही जनमंच का मूल उद्देश्य-डाॅ. सैजल

उन्होंने कहा कि कामगार कल्याण बोर्ड से पंजीकृत कामगारों व उनके परिवार के कल्याण के लिए प्रदेश सरकार अनेकों योजनाएं चला रही है। उन्होंने कहा कि बोर्ड के साथ पंजीकृत कामगार की दुर्घटना में मृत्यु पर 4 लाख रुपए तथा प्राकृतिक मृत्यु पर दो लाख रुपए की सहायता राशि परिवार को प्रदान की जाती है। इसके अलावा कामगार के दो बच्चों को शिक्षा के लिए भी मदद दी जाती है। पंजीकृत कामगार के पहली से आठवीं कक्षा तक पढ़ने वाले पात्र विद्यार्थियों को 8400 रूपए प्रति वर्ष, नौवीं से बारहवीं तक के लिए 12 हजार रूपए प्रतिवर्ष, स्नातक कर रहे विद्यार्थियों के लिए 36 हजार रूपए प्रतिवर्ष, स्नातकोत्तर वाले विद्यार्थियों को 60 हजार, आईटीआई के लिए 48 हजार तथा पॉलिटेक्निकल कोर्स के लिए 60 हजार रूपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। इसके अलावा व्यावसाय संबंधी कोर्स के लिए 1 लाख 20 हजार रूपए प्रतिवर्ष आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाती है। उन्होंने कहा कि दो बच्चों के विवाह के लिए भी लाभार्थी को 51 हजार रुपए की सहायता राशि देने का प्रावधान है। 

इसे भी पढ़ें: लोगों की समस्याओं के स्थायी समाधान को सरकार वचनबद्ध : राकेश पठानिया

बिक्रम सिंह ने कहा कि कामगार बोर्ड में पंजीकृत लाभार्थी को मुख्यमंत्री आवास योजना व प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 1 लाख 50 हज़ार रूपए की आर्थिक मदद भी प्रदान की जाएगी। इसके अलावा पंजीकृत विधवा लाभार्थियों को 15 सौ रूपए प्रतिमाह विधवा पेंशन दी जाती है। उन्होंने कहा कि जिला ऊना में पंजीकृत कामगारों की संख्या 23,839 है। लाभार्थियों को विभिन्न योजनाओं में 20.72 करोड़ की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है। जबकि कोरोना संकट के दौरान जिला ऊना के 8270 पात्र कामगारों को लगभग पांच करोड़ की सहायता प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि ई-श्रम पोर्टल में असंगठित क्षेत्र के 12,589 कामगारों का पंजीकरण किया गया है तथा इस कार्य को युद्ध स्तर पर करने के निर्देश दिए गए हैं। 

 

इसे भी पढ़ें: निःशुल्क दवा योजना के अन्तर्गत राज्य में राजकीय स्वास्थ्य संस्थानों में मरीजों को उपलब्ध करवाई जा रही हैं दवाईयां, 216 करोड़ रुपये व्यय

 

इससे पूर्व गगरेट विधायक राजेश ठाकुर ने उद्योग, श्रम एवं रोजगार व परिवहन मंत्री विक्रम सिंह का कार्यक्रम में स्वागत किया और कहा कि इस क्षेत्र में पहली बार जनमंच का आयोजन किया जा रहा है तथा सरकार द्वारा घर-द्वार पर जाकर लोगों की शिकायतों का निपटारा किया जा रहा है। कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने उद्योग, श्रम एवं रोजगार व परिवहन मंत्री विक्रम सिंह का स्वागत किया और उन्हें प्री-जनमंच गतिविधियों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।