हरियाणा में पशुपालन, शूकर पालन, मत्स्य पालन की 25 हजार ईकाइयां स्थापित की जाएंगी

हरियाणा में  पशुपालन, शूकर पालन, मत्स्य पालन की 25 हजार ईकाइयां स्थापित की जाएंगी

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पशुधन क्रेडिट कार्ड व किसान के्रडिट कार्ड में अब तक 924 करोड़ की राशि वितरित कर दी है। केंद्र व प्रदेश सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की अगुवाई में किसानों की उन्नति व खुशहाली के लिए प्रतिबद्ध है।

शिमला  मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान कार्यक्रम के दौरान हरियाणा प्रदेश में 2022-23 के दौरान पशुपालन, शूकर पालन, मत्स्य पालन की 25 हजार ईकाइयां स्थापित की जाएंगी, जिससे हजारों व्यक्तियों को रोजगार मुहैया होगा। यह बात हरियाणा के राज्यपाल  बंडारू दत्तात्रेय ने भिवानी में आयोजित तीन दिवसीय राज्य स्तरीय पशुधन प्रदर्शनी उद्घाटन समारोह में अपने सम्बोधन में कही।

 

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पशुधन क्रेडिट कार्ड व किसान के्रडिट कार्ड में अब तक 924 करोड़ की राशि वितरित कर दी है। केंद्र व प्रदेश सरकार प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की अगुवाई में किसानों की उन्नति व खुशहाली के लिए प्रतिबद्ध है।

इसे भी पढ़ें: या तो ड्रग की तस्करी बंद करो, या हरियाणा छोड़ो दो --गृह मंत्री अनिल विज

उन्होंने जय हिंद, जय किसान और जय हरियाणा के उद्घोष से कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में कृषि क्षेत्र का महत्वपूर्ण योगदान है। कोविड-19 के समय जब पूरा देश लॉकडाउन का सामना कर रहा था, किसानों ने महामारी के समय भी अपना काम कभी बंद नहीं किया और पशुपालन व खेती का काम अनवरत जारी रखा। जिसकी बदौलत आज हमारा प्रदेश और देश खाद्यान्न की दृष्टि से आत्मनिर्भर है।    बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि हरियाणा के मेहनती किसानों ने अपने इलाके का मान कृषि, खेल, उद्योग, शिक्षा आदि हर क्षेत्र में राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ाया है। हमारे किसान ‘‘देसां में देस हरियाणा जित दूध दही का खाना’’ कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं।

 

इसे भी पढ़ें: आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और हेल्पर्स अपने राजनीतिक नेताओं के बहकावे में न आएं --मुख्यमंत्री

 

उन्होंने कहा हरियाणा देश का पहला राज्य है जो कि 14 फसलों का समर्थन मूल्य किसानों को दे रहा है। इसके अलावा प्रदेश में किसानों की भलाई के लिए भाव भावांतर भरपाई स्कीम, मेरा पानी-मेरी विरासत योजना को भी कृषि हित में चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भू-जलस्तर में सुधार के लिए किसानों को सिंचाई की नई तकनीकों का प्रयोग करना होगा।

राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश में 1142 ग्राम प्रति व्यक्ति के हिसाब से दूध का उत्पादन हो रहा है। पंजाब के बाद हरियाणा सबसे अधिक दूध का उत्पादन करता है। वह दिन दूर नहीं, जब विकासशील व वैज्ञानिक सोच के साथ प्रदेश को दूध उत्पादन में पहले स्थान पर लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि दुधारू पशुओं की नस्ल को और बेहतर बनाने के लिए कृषि एवं पशुपालन विभाग की ओर से प्रदेश स्तर पर यह शानदार आयोजन किया गया है।

उन्होंने किसानों का आहवान किया कि उदारीकरण व व्यापारीकरण के दौर में आज हमारे किसानों को विकसित राष्ट्रों के किसानों के साथ प्रतिस्पर्धा में खड़ा होना होगा। अतः हमें कृषि पद्धतियों में बदलाव लाना होगा और आधुनिक तकनीकों का बड़े पैमाने पर प्रयोग करना होगा। इसके साथ पशुपालन, मछली पालन, पोल्ट्री व कृषि से जुड़े अन्य व्यवसाय अपनाने होंगे। इन क्षेत्रों में नए स्टार्टअप शुरू करने होंगे।

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन से भारतीय नागरिकों को देश वापस लाने के लिए हर संभव प्रयास करेगी हरियाणा सरकार

उन्होंने कहा कि हमें कृषि, पशुपालन, पोल्ट्री व अन्य कृषि आधारित व्यवसायों को उद्योग के रूप में देखना चाहिए न कि एक जीने का साधन। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन पशुपालकों में प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करते हैं और पशुपालकों को उन्नत व नवीनतम तकनीक अपनाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

कृषि मंत्री श्री जे.पी. दलाल ने कहा कि प्रदर्शनी में पशुओं की उत्तम नस्ल प्रदर्शित की गई है, मनोरंजन के लिए प्रदेश के सुप्रसिद्ध कलाकारों को बुलाया गया है और किसानों को नवीनतम जानकारी देने के लिए प्रदर्शनी लगाई गई है। प्रदर्शनी के दौरान लाखों रुपये के पुरस्कार दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस तीन दिवसीय कार्यक्रम में एक लाख से अधिक किसान भाग लेंगे। उन्होंने भिवानी आगमन पर महामहिम राज्यपाल का आभार व्यक्त किया। कृषि मंत्री ने स्मृति चिन्ह व शॉल ओढ़ाकर राज्यपाल को सम्मानित किया।

इसे भी पढ़ें: कक्षा तीसरी से पोस्ट ग्रेजुएशन तक अच्छी शिक्षा दिलाना सरकार का ध्येय - मनोहर लाल

पशुपालन विभाग के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव पंकज अग्रवाल ने कहा कि हरियाणा के पशुओं की नस्ल में सुधार के लिए कृत्रिम गर्भाधान को बढ़ावा दिया जा रहा है। सरकार ने कृत्रिम गर्भाधान का शुल्क 500 रूपए से घटाकर दो सौ रूपए निर्धारित कर दिया है। मुंहखुर व गलघोटू बीमारी का एक ही टीका लगाने वाला हरियाणा देश का प्रथम राज्य है। राज्य में 52 लाख पशुओं को मुंह खुर व ब्रुसेला रोग की 48 लाख वैक्सीन दी गई है। पशुपालन विभाग के महानिदेशक डा. बीरेंद्र सिंह लौरा ने कहा कि पशुपालन को लाभकारी व प्रमुख व्यवसाय बनाने के उद्देश्य से यह प्रदर्शनी लगाई गई है। उन्होंने कहा कि पशुचिकित्सा सुलभ करवाने के लिए 70 और मोबाइल वैन चलाई जाएंगी।

हरियाणा पशुधन विकास बोर्ड के प्रबंध निदेशक डा. एसके बागोरिया ने सभी अतिथिगण का आभार प्रकट किया। शुभारंभ समारोह में भिवानी के विधायक घनश्याम दास सर्राफ, पशुधन विकास बोर्ड के चेयरमैन व पूंडरी के विधायक रणधीर गोलन, युवा आयोग के चेयरमैन मुकेश गौड़, मत्स्य पालन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अशोक खेमका, लुवास के कुलपति डा. विनोद वर्मा, सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।