अयोध्या केस का 33वां दिन: मुस्लिम पक्ष ने ASI की रिपोर्ट पर उठाए सवाल

अयोध्या केस का 33वां दिन: मुस्लिम पक्ष ने ASI की रिपोर्ट पर उठाए सवाल

मीनाक्षी अरोड़ा ने कहा कि एएसआई की रिपोर्ट में कहीं पर भी राम मंदिर का स्थान नहीं बताया गया है, जबकि राम चबूतरे को वाटर टैंक बताया गया है।

अयोध्या रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद केस में सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच रोजाना सुनवाई कर रही है। इसी दौरान आज सुनवाई के 33वें दिन मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखीं जा रही हैं। मुस्लिम पक्ष की वकील मीनाक्षी अरोड़ा ने आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए उसे महज विचार बताया और कहा कि इसके आधार पर किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सकता। जिस पर जस्टिस बोबड़े ने कहा कि हमें पता है कि पुरातत्व विभाग की तरफ से निष्कर्ष निकाले जाते हैं। यहां असली सबूत कौन दे सकता है? हम यहां इसी आधार पर निर्णय ले रहे हैं कि किसका अनुमान सटीक है और क्या विकल्प हैं..?

इसे भी पढ़ें: अयोध्या मामला: ASI रिपोर्ट के सारांश के लेखक पर सवाल उठाने पर मुस्लिम पक्षकारों ने पलटी मारी

जिसके बाद मीनाक्षी अरोड़ा ने कहा कि एएसआई की रिपोर्ट में कहीं पर भी राम मंदिर का स्थान नहीं बताया गया है, जबकि राम चबूतरे को वाटर टैंक बताया गया है। इस दौरान जस्टिस नज़ीर ने इसपर कहा कि पुरातत्व पूरी तरह से विज्ञान नहीं है, ऐसे में इसपर सेक्शन 45 लागू नहीं होगा. मुस्लिम पक्ष की ओर से मीनाक्षी अरोड़ा ने इसपर कहा कि एएसआई की रिपोर्ट की जांच होनी चाहिए क्योंकि कई एक्सपर्ट ने उसपर सवाल उठाए थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...