370 खत्म करने के खिलाफ राष्ट्र-विरोधी हिंसक प्रदर्शन आयोजित करने के मामले में एक गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2019   15:02
370 खत्म करने के खिलाफ राष्ट्र-विरोधी हिंसक प्रदर्शन आयोजित करने के मामले में एक गिरफ्तार

श्रीनगर में राष्ट्र-विरोधी हिंसक प्रदर्शन, एक आरोपी गिरफ्तार. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में तंगधार के बागी-मेहताब इलाके में रहने वाले बशीर अहमद कुरैशी को गिरफ्तार किया।

श्रीनगर। केन्द्र सरकार के जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान खत्म करने के खिलाफ राष्ट्र-विरोधी हिंसक प्रदर्शन आयोजित करने में कथित संलिप्तता के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने सोमवार को इसकी जानकारी दी ।पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में तंगधार के बागी-मेहताब इलाके में रहने वाले बशीर अहमद कुरैशी को रविवार को गिरफ्तार किया गया।

इसे भी पढ़ें: भाजपा के गंगाजल से एक ही रात में शुद्ध हो गए अजित पवार: मीर

उन्होंने बताया कि कुरैशी को चानपोरा इलाके से गिरफ्तार किया गया।अधिकारी ने बताया कि पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार कुरैशी श्रीनगर में विशेषकर सौरा इलाके के आंचर में राष्ट्र-विरोधी हिंसक प्रदर्शन आयोजित करने में शामिल था। उन्होंने कहा, ‘‘ वह कई मामलों में शामिल है। प्राथमिक जांच में पाया गया कि उसका अलगाववादियों से नाता था। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार पुलिस और सुरक्षा बलों पर पथराव करने और राष्ट्रविरोधी प्रदर्शन करने के लिए युवकों को उकसाने में उसकी अहम भूमिका थी। उसने गैरकानूनी बैठकें और हिंसक प्रदर्शन आयोजित करने में भी भूमिका निभाई, जिसमें जानमाल का बड़ा नुकसान हुआ। ’’ अधिकारी ने बताया कि मामले में आगे की जांच जारी है। केन्द्र सरकार के पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त करने और उसे केन्द्र शासित प्रदेश बनाने की घोषणा करने के बाद सही शहर के आंचर इलाके में बड़े स्तर पर प्रदर्शन किए गए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।