क्या खत्म होगा संसद में जारी गतिरोध ? महंगाई के मुद्दे पर इस दिन चर्चा होने की संभावना

Parliament of India
ANI Image
लोकसभा में नियम 193 के तहत मूल्य वृद्धि पर चर्चा सोमवार, 1 अगस्त को होगी। इसके लिए शिवसेना नेता विनायक राउत और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की ओर से एक नोटिस प्राप्त हुआ है। जबकि राज्यसभा में 2 अगस्त को महंगाई पर चर्चा की संभावना है।

नयी दिल्ली। संसद के मानसून सत्र में महंगाई, जीएसटी, अग्निपथ समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर विपक्षी दलों के हंगामे के चलते गतिरोध कायम है। इसके साथ की कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया। जिसको लेकर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य भी हमलावर हैं। इसी बीच जानकारी निकलकर सामने आई की लोकसभा में महंगाई के मुद्दे को लेकर चर्चा हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: Parliament में भारी हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही स्थगित, राष्ट्रपत्नी विवाद पर गर्माया माहौल 

माचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, लोकसभा में नियम 193 के तहत मूल्य वृद्धि पर चर्चा सोमवार, 1 अगस्त को होगी। इसके लिए शिवसेना नेता विनायक राउत और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की ओर से एक नोटिस प्राप्त हुआ है। जबकि राज्यसभा में 2 अगस्त को महंगाई पर चर्चा की संभावना है।

आपको बता दें कि विपक्षी दलों के सदस्य लगातार महंगाई और जीएसटी के मुद्दे पर चर्चा की मांग कर रहे थे। हालांकि संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी का कहना था कि सरकार चर्चा के लिए तैयार है।

इसे भी पढ़ें: 'द्रौपदी मुर्मू को कांग्रेस ने पहले भी किया अपमानित', प्रह्लाद जोशी बोले- बिना शर्त माफी मांगे अधीर रंजन 

हंगामेदार रही सदन की कार्यवाही

मानसून सत्र के 10वें दिन शुक्रवार को भी दोनों सदनों में जमकर हंगामा हुआ। भाजपा के सदस्यों ने सोनिया गांधी माफी मांगो के जमकर नारे लगाए। जबकि विपक्षी दलों के सदस्यों ने सांसदों के निलंबन, महंगाई समेत इत्यादि मुद्दों को लेकर आसन के समीप जाकर हंगामा किया और सभापति के अनुरोध के बावजूद अपनी जगहों पर नहीं लौटे। जिसके बाद सदन की कार्यवाही को 1 अगस्त सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़