कोरोना के बहाने विज्ञापन बॉय शिवराज मना रहे लोकतंत्र की हत्या का उत्सव- जीतू पटवारी

 Jeetu Patwari
दिनेश शुक्ल । Mar 23, 2021 10:16AM
जहाँ बड़े-बड़े विज्ञापन छपवाकर शिवराज सरकार प्रयास कर रही है तो वही भाजपा के विभिन्न कार्यक्रमों में कही भी इसका असर नहीं दिखाई देता है। भाजपा के कार्यक्रमों में मास्क तो छोड़े, सोशल डिस्टेंसिंग तो दूर-दूर तक नजर नहीं आती। जबकि मुख्यमंत्री बाजार-बाजार जाकर लोगों को मास्क लगा रहे है और सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील कर रहे है।

भोपाल। कोरोना के नाम पर शिवराज सरकार ने एक नई नौटंकी शुरू कर दी है। कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने की वजह आपदा में अवसर की तलाश कर रही है, शिवराज सरकार जबकि प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा एक हजार से उपर पहुँच चुका है। यह बात मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कही। जीतू पटवारी ने कहा कि मध्य प्रदेश में पिछले साल जब कोरोना फैल रहा था तब भाजपा लोकतंत्र की हत्या कर सरकार बनाने में लगी थी। जिसके चलते ही प्रदेश में कोरोना संक्रमण की यह स्थिति बनी।

इसे भी पढ़ें: कोरोना विपदा पर विजय के साथ ही बढ़ रहा है संघकार्य, 90 प्रतिशत शाखाएं फिर प्रारंभ

जीतू पटवारी ने कहा कि मास्क लगाना और सामाजिक दूरी बनाए रखना आज के समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है। जिसका पालन सबको करना चाहिए और कांग्रेस पार्टी भी इसके लिए समाज के प्रत्येक वर्ग और प्रदेशवासियों से अपील करती है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए मास्क लगाए और समाजिक दूर बनाए रखे।लेकिन वही कोरोना से बचाओ के लिए जहाँ बड़े-बड़े विज्ञापन छपवाकर शिवराज सरकार प्रयास कर रही है तो वही भाजपा के विभिन्न कार्यक्रमों में कही भी इसका असर नहीं दिखाई देता है। भाजपा के कार्यक्रमों में मास्क तो छोड़े, सोशल डिस्टेंसिंग तो दूर-दूर तक नजर नहीं आती। जबकि मुख्यमंत्री बाजार-बाजार जाकर लोगों को मास्क लगा रहे है और सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील कर रहे है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के उज्जैन में दो कारों में हुई भिड़ंत, एक की मौत 7 घायल

पूर्व मंत्री ने कहा कि विज्ञापन वाली सरकार सिर्फ आपदा में अवसर ढूढ़ती है। सारे प्रतिबंध आम जनता के लिए है, लोगों को परेशान करने के लिए है शराब की दुकानें साढ़े 11 बजे तक खलेंगी और कर्फ्यू 10 बजे ही लग जाएगा यह समझ से परे है। कोरोना संक्रमण को हराने के लिए कांग्रेस पार्टी प्रतिबद्ध है, लेकिन स्वयं भाजपा की सरकार नहीं चाहती कि कोरोना संक्रमण खत्म हो क्योंकि यह आपदा में अवसर ढूंढ़ते है। शिवराज सरकार ने 30 करोड़ का काढ़ा जनता में बांट दिया,लेकिन प्रदेश में किसी को यह काढ़ा मिला नहीं। विधानसभा के बजट सत्र में मेरे द्वारा इसको सवाल किया गया लेकिन सरकार गोलमोल जबाब देती नज़र आई।

इसे भी पढ़ें: इंदौर में कोरोना मरीजों के उपचार के लिये पुनः शुरू हुआ सुपर स्पेशलिटी चिकित्सालय

जीतू पटवारी नेआरोप लगाया कि कोरोना के नाम पर शिवराज सरकार भ्रष्ट्राचार कर रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना का इलाज मुहैया करवाने की वजह पहले मोदी सरकार ताली-थाली लेकर आई थी तो अब वही मोदी जी का मुकाबला करने के लिए शिवराज जी सायरन बजाकर कोरोना संक्रमण भगाने में लगे है। यह कैसा हास्यास्पद है कि भाजपा के अंदर ही कोरोना प्रतियोगिता चल रही है। जहाँ एक ताली-थाली बजा रहा है तो दूसरा सायरन बजाने के लिए समाचार पत्रों में फुल पेज विज्ञापन देकर कोरोना के नाम पर जनता की गाढ़ी कमाई को बरबाद करने में लगा है वह भी जनता को कर्जदार बनाकर। जबकि कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए बनाए गए कोविड सेंटर सरकार ने बंद कर दिए है, जहाँ जनता को समुचित इलाज मिल पाता वही मोहल्ला क्लीनिक शुरू करने और जनता के इलाज के लिए समुचित व्यवस्था करना राज्य सरकार का फर्ज है, वह छोड़कर कोरोना के बहाने शिवराज जी लोकतंत्र की हत्या का उत्सव मना रहे है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़