मोदी विरोध में अदावत हुई दूर, सपा-बसपा की दोस्ती भरपूर

By अभिनय आकाश | Publish Date: Apr 19 2019 1:06PM
मोदी विरोध में अदावत हुई दूर, सपा-बसपा की दोस्ती भरपूर
Image Source: Google

रैली के जरिए महागठबंधन ने प्रतिद्वंद्वियों को यह संदेश देने की कोशिश कि की सभी दल बीजेपी के खिलाफ एकजुट हैं।

लखनऊ। मायावती के प्रचार पर लगी रोक हट चुकी है, आज वो कभी अपने राजनीतिक दुश्मन रहे मुलायम सिंह यादव के लिए वोट मांगने  मैनपुरी में मौजूद रहीं। मैनपुरी के क्रिश्चियन फील्ड में आयोजित महागठबंधन की उस रैली में मोदी को हटाने के संकल्प के साथ मुलायम सिंह यादव, मायावती और अखिलेश यादव एक साथ मौजूद रहें। मायावती के साथ उनके भतीजे आकाश भी मंच पर उपस्थित थे।

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: 25 साल बाद अदावत भुला फिर मिलेंगे मुलायम और माया

रालोद अध्यक्ष अजीत सिंह इस रैली में शामिल नहीं हुए है। रैली के जरिए महागठबंधन प्रतिद्वंद्वियों को यह संदेश देने की कोशिश कि की सभी दल बीजेपी के खिलाफ एकजुट हैं। शुरू में ऐसी खबरें थीं कि मुलायम रैली में शामिल नहीं होंगे। लेकिन सपा के संरक्षक रैली में शामिल भी हुए और चुनाव में भरपूर बहुमत मिलने की प्रतिबद्धता भी जताई। मुलायम ने मायावती का अभिनंदन करते हुए कहा कि आखरी बार चुनाव लड़ रहा हूं, पहले से ज्यादा वोटों से जिताना।  साथ ही सहयोगियों को भी जिताने की मुलायम ने अपील की।

इसे भी पढ़ें: मायावती को संवैधानिक संस्थाओं पर कोई भरोसा नहीं: महेन्द्र नाथ पाण्डेय



मायावती ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि गेस्टहाउस कांड को भूलकर भी साथ चुनाव लड़ रहे हैं। पिछड़े लोग मुलायम को ही अपना नेता मानते हैं। मुलायम ने सभी समाज के लोगों को जोड़ा है। मुलायम सिंह मोदी की तरह फर्जी पिछड़े वर्ग के नेता नहीं है। मायावती ने मोदी पर हमला करते हुए कहा कि महागठबंधन को ही कामयाब बनाना है और नरेंद्र मोदी पर गरीबों, पिछड़ों का हक मारने का आरोप लगाया। मायावती कांग्रेस को भी निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस ने भी अपने वादों को पूरा नहीं किया। कांग्रेस की न्याय योजना सिर्फ दिखावा है। कांग्रेस गरीबों का वोट पाने के लिए पूरे देश में घुम रही है। हम गरीबों को स्थायी नौकरी के साधन देंगे।

इसे भी पढ़ें: सपा-बसपा की चाबी मोदी के हाथ में है : राहुल

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी मुलायम सिंह यादव के पक्ष में वोट करने की अपील करते हुए भाजपा पर तीखे हमले किए। अखिलेश ने कहा कि देश अभी नाजुक दौर से गुजर रहा है, देश के किसान दुःखी हैं । ये चुनाव देश के भविष्य से जुड़ा है। हमें नया प्रधानमंत्री बनाना है, लोगों की नौकरी, रोजगार खत्म हो गया। नया पीएम बनेगा तभी नया भारत बनेगा। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video