अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: जमानत पर सुनवाई से पहले तिहाड़ जेल में बंद क्रिश्चियन मिशेल भूख हड़ताल पर बैठे

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: जमानत पर सुनवाई से पहले तिहाड़ जेल में बंद क्रिश्चियन मिशेल भूख हड़ताल पर बैठे

प्राप्त जानकारी के मुताबिक क्रिश्चियन मिशेल ने गुरुवार को यह कहते हुए भूख हड़ताल शुरू की कि उनकी आवाज सुनने का यही एकमात्र तरीका है क्योंकि उन्होंने ब्रिटिश सरकार से उनके मामले में हस्तक्षेप करने का आह्वान किया था। मिशेल को साल 2018 में दुबई से भारत लाया गया था और उसके बाद से वो तिहाड़ जेल में कैद है।

नयी दिल्ली। अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआइपी हेलीकॉप्टर घोटाले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल गुरुवार को भूख हड़ताल पर बैठ गए। आपको बता दें कि क्रिश्चियन मिशेल तिहाड़ जेल में बंद हैं और उनका मानना है कि भूख हड़ताल के माध्य से ही अपनी आवाज ब्रिटिश सरकार के कानों तक पहुंचा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: रावण था दुनिया का पहला पायलट! पुष्पक विमान पर रिसर्च फिर से शुरू करेगा श्रीलंका

ब्रिटेन के PM को पत्र लिखकर दी थी जानकारी

प्राप्त जानकारी के मुताबिक क्रिश्चियन मिशेल ने गुरुवार को यह कहते हुए भूख हड़ताल शुरू की कि उनकी आवाज सुनने का यही एकमात्र तरीका है क्योंकि उन्होंने ब्रिटिश सरकार से उनके मामले में हस्तक्षेप करने का आह्वान किया था। अंग्रेजी समाचार वेबसाइट 'टाइम्स ऑफ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक, क्रिश्चियन मिशेल के परिवार ने शुक्रवार को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को एक पत्र लिखकर भूख हड़ताल पर जाने की बात कही थी। 

आपको बता दें कि क्रिश्चियन मिशेल को साल 2018 में दुबई से भारत लाया गया था और उसके बाद से वो तिहाड़ जेल में कैद है। क्रिश्चियन मिशेल पर भारतीय को रिश्वत देने का आरोप है। क्रिश्चियन मिशेल की जमानत पर 2 दिसंबर को सुनवाई होने वाली है और इससे पहले ही वो भूख हड़ताल पर बैठ गए। तिहाड़ जेल प्रशासन उसके स्वास्थ्य पर नजर बनाए हुए है। 

इसे भी पढ़ें: राफेल लड़ाकू विमान के बेड़े को अपग्रेड करने की तैयारी में भारतीय वायुसेना, जनवरी से होगी शुरूआत

तीन साल से तिहाड़ में कैद है मिशेल

रिपोर्ट के मुताबिक क्रिश्चियन मिशेल के वकील अल्जो जोसेफ ने बताया कि वह तीन साल से हिरासत में है और अगर उसे दोषी ठहराया भी जाता तो उसे अधिकतम 5 या फिर 7 साल की सजा होती। इसलिए वो पहले ही 50 फीसदी सजा काट चुका है। अभी को कोई मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है क्योंकि जांच पूरी नहीं हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।