शरद पवार से बोले छगन भुजबल, अजित को NCP में वापस लाने के लिए मनाना चाहिए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2019   08:41
शरद पवार से बोले छगन भुजबल, अजित को NCP में वापस लाने के लिए मनाना चाहिए

शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के नेतृत्व वाली ‘महाराष्ट्र विकास अघाडी’ की संयुक्त बैठक में भुजबल ने कहा कि गठबंधन को मजबूत करने के लिए अजित पवार की मौजूदगी जरूरी थी।

मुंबई। राकांपा के वरिष्ठ नेता छगन भुजबल ने मंगलवार को पार्टी प्रमुख शरद पवार से अपील की है कि वह वरिष्ठ नेता अजित पवार द्वारा संगठन में दिए गए ‘योगदान’ को याद करते हुए उन्हें पार्टी में वापस आने के लिए मनाएं। अजित पवार ने भाजपा नीत सरकार को शनिवार को अपना समर्थन दे दिया था और आज उच्चतम न्यायालय में हुए घटनाक्रम के बाद उन्होंने उप मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, फडणवीस, अजित समेत विधायक ले रहे हैं शपथ

शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के नेतृत्व वाली ‘महाराष्ट्र विकास अघाडी’ की संयुक्त बैठक में भुजबल ने कहा कि गठबंधन को मजबूत करने के लिए अजित पवार की मौजूदगी जरूरी थी। अघाडी की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार उद्धव ठाकरे सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए दक्षिणी मुंबई में स्थित राजभवन गए। भुजबल ने कहा, ‘‘ कई लोगों ने राकांपा के लिए कड़ी मेहनत की। मैं बताना चाहूंगा कि अजित दादा का योगदान बड़ा है। गलतियां होती है...इस गठबंधन को मजबूत करने के लिए हमें महत्वपूर्ण लोगों की जरूरत है।’’

इसे भी पढ़ें: फडणवीस की पत्नी अमृता ने महाराष्ट्रवासियों से कहा- हम करेंगे वापसी

उन्होंने कहा कि राकांपा अध्यक्ष जयंत पाटिल और वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने अजित पवार को वापस लाने के लिए कदम उठाए हैं। भुजबल ने शरद पवार से अपील करते हुए कहा, ‘‘ हम आपसे आग्रह करते हैं कि आप हमें ऐसा करने दें।’’ वहीं राकांपा कार्यकर्ताओं ने भी भाजपा नीत सरकार से उप मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की अजित पवार के निर्णय की प्रशंसा की। अजित पवार के कई वफादार लोगों के समूहों ने पुणे जिले के उनके गृह शहर बारामति में मिठाइयां भी बंटवाई। उन्होंने अजित से अपील की है कि उन्हें राजनीति छोड़ने जैसा ‘अंतिम कदम’ नहीं उठाना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।