बैंक करप्शन मामले में पवार का नाम आने पर आश्चर्य में अन्ना, कहा- मेरे सबूतों में नहीं था नाम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 27, 2019   12:56
बैंक करप्शन मामले में पवार का नाम आने पर आश्चर्य में अन्ना, कहा-  मेरे सबूतों में नहीं था नाम

हजारे से जब ईडी के इस मामले तथा घोटाले में पवार का नाम कथित तौर परसंबद्ध होने के संबंध में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा,‘‘ यह मामला जब मेरे सामने आया था तो शरद पवार का नाम इसमें नहीं था। उनका नाम कैसे आया, किसने डाला ये सभी चीजें वही जानते हैं।’’

पुणे। सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार का नाम करोड़ों रुपये के महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक घोटाले में आने पर आश्चर्य व्यक्त किया है। प्रवर्तन निदेशालय ने पवार और महाराष्ट्र के पूर्व उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के खिलाफ धन शोधन का मामला दर्ज किया है। अजीत पवार राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के भतीजे हैं।  पुलिस की प्राथमिकी के समकक्ष मानी जाने वाली प्रवर्तन मामला सूचना रिपोर्ट(इन्फोर्समेंट केस इन्फॅर्मेशन रिपोर्ट) को केंद्रीय जांच एजेंसी ने धन शोधन (रोकथाम) अधिनियम के तहत पंजीकृत किया है। यह मामला मुंबई पुलिस की ओर से दर्ज प्राथमिकी पर आधारित है। इस प्राथमिकी में बैंक के पूर्व अध्यक्ष अजीत पवार और बैंक के 70 पदाधिकारियों के नाम हैं।

इसे भी पढ़ें: दोपहर 2 बजे प्रवर्तन निदेशालय पहुंचेंगे शरद पवार, निषेधाज्ञा लागू

हजारे से जब ईडी के इस मामले तथा घोटाले में पवार का नाम कथित तौर परसंबद्ध होने के संबंध में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा,‘‘ यह मामला जब मेरे सामने आया था तो शरद पवार का नाम इसमें नहीं था। उनका नाम कैसे आया, किसने डाला ये सभी चीजें वही जानते हैं।’’ भ्रष्टाचार के खिलाफ मुखर आवाज उठाने वाले और पवार के आलोचक रहे हजारे ने उम्मीद जताई की इस भ्रष्टाचार मामले की विस्तृत जांच के बाद सच्चाई का पता चलेगा। उन्होंने कहा, ‘‘ प्रवर्तन निदेशालय को जानकारी होगी कि उनका (पवार का) नाम कैसे इस मामले में आया।’’

इसे भी पढ़ें: विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पवार के खिलाफ कार्रवाई से आती है अवसरवाद की बू: राहुल

पवार ने इस भ्रष्टाचार मामले में किसी तरह की संलिप्तता से इनकार करते हुए कहा कि वह बैंक से किसी भी तरह से नहीं जुड़े हैं। उन्होंने प्राथमिकी के समय परभी सवाल उठाया जो कि 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव से कुछ सप्ताह पहले दर्ज की गई है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वह दिल्ली की ‘सत्ता’ के समक्ष नहीं झुकेंगे। उनका इशारा केंद्र की भाजपा नीत सरकार की ओर था। राकांपा ने इस मामले को राजनीति से प्रेरित बताया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।