शाहीन बाग, ओखला जैसे इलाकों में चलेगा अतिक्रमण रोधी अभियान, दक्षिणी दिल्ली के मेयर ने बताई पूरी योजना

शाहीन बाग, ओखला जैसे इलाकों में चलेगा अतिक्रमण रोधी अभियान, दक्षिणी दिल्ली के मेयर ने बताई पूरी योजना
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

एसडीएमसी के मेयर मुकेश सुर्यान ने बताया कि शाहीन बाग, ओखला, तिलक नगर वेस्ट सहित कई वार्ड को चिन्हित किया गया है मदनपुर खादर में भी अतिक्रमण देखा गया है। सड़क पर जो भी अतिक्रमण है उसे हटाया जाएगा। जहां बिल्डिंग खड़ी हुई है वहां के लिए प्लान तैयार किया गया है, उसे भी आने वाले समय में हटाया जाएगा।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में हिंसा के बाद प्रशासन का अतिक्रमण रोधी अभियान देखने को मिला। जिसको लेकर भारी हंगामा हुआ। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने अतिक्रमण रोधी अभियान पर रोक लगा दी। उस वक्त कोर्ट ने कहा था कि निर्माण ढहाने के लिए पूरी तरह से अनधिकृत और असंवैधानिक आदेश दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: सरकार ने यूक्रेन संघर्ष, जहांगीरपुरी हिंसा की कवरेज को लेकर टीवी चैनलों को कड़ी हिदायत दी 

इसके बाद अब दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) शाहीनबाग जैसे इलाकों में अतिक्रमण रोधी अभियान चलाने के बारे में योजना बना रही है। एसडीएमसी के मेयर मुकेश सुर्यान ने बताया कि सड़क पर जो भी अतिक्रमण है उसे हटाया जाएगा।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एसडीएमसी के मेयर मुकेश सुर्यान ने बताया कि शाहीन बाग, ओखला, तिलक नगर वेस्ट सहित कई वार्ड को चिन्हित किया गया है मदनपुर खादर में भी अतिक्रमण देखा गया है। सड़क पर जो भी अतिक्रमण है उसे हटाया जाएगा। जहां बिल्डिंग खड़ी हुई है वहां के लिए प्लान तैयार किया गया है और उसे भी आने वाले समय में हटाया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: बुलडोजर से लड़ेगा ट्रैक्टर! राकेश टिकैत बोले- संविधान अलमारी में बंद, एक विशेष धर्म के लोगों पर हो रही कार्रवाई 

उन्होंने कहा कि विभाग को तारीखें बता दी गई हैं, एक महीने का प्लान दिया गया है। अतिक्रमण को हटाने के लिए एमसीडी एक्ट के तहत पहले नोटिस नहीं दिया जाता है लेकिन जहां लोगों ने बड़ी इमारत बना ली है वहां के लिए नोटिस तैयार किया जा चुका है जिसपर कार्रवाई की जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।