अयोध्या विवाद में अगले हफ्ते की इस तारीख को फैसला आने की है संभावना

अयोध्या विवाद में अगले हफ्ते की इस तारीख को फैसला आने की है संभावना

फैसले व त्यौहारों के मद्देनजर अयोध्या में धारा 144 पहले से प्रभावी है। इसके अलावा पंच कोसी परिक्रमा को लेकर अलग व्यवस्था की गई है और ड्रोन से अयोध्या शहर की निगरानी की जा रही है। जिसके बाद से तारीखों को लेकर भविष्यवाणी की जाने लगी कि कल अयोध्या पर फैसला आ सकता है।

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई पूरी हो चुकी है और फैसला 17 नवबंर से पहले कभी भी आ सकता है। केंद्र सरकार की तरफ से सभी राज्यों को अलर्ट रहने को कहा गया है। इसके साथ ही राज्यों को भी एडवाइजरी जारी किए जाने की खबर है। ऐसे में उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 4000 अतिरिक्त पैरामिलिट्री फोर्स के जवान भेजने का निर्णय किया है। यह 18 नवंबर तक राज्य में रहेंगे। फैसले व त्यौहारों के मद्देनजर अयोध्या में धारा 144 पहले से प्रभावी है। इसके अलावा पंच कोसी परिक्रमा को लेकर अलग व्यवस्था की गई है और ड्रोन से अयोध्या शहर की निगरानी की जा रही है। जिसके बाद से तारीखों को लेकर भविष्यवाणी की जाने लगी कि कल अयोध्या पर फैसला आ सकता है। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी की मंत्रियों से अपील, बोले- अयोध्या पर अनावश्यक बयानबाजी से बचें

लेकिन भारत और पाकिस्तान के बीच चर्चित करतारपुर कॉरिडोर 9 नवंबर को खुलने वाला है। इसे लेकर दोनों देशों के बीच समझौता हो चुका है और कई सांसद, विधायक व मंत्री करतारपुर जाने वाले पहले जत्थे का हिस्सा बनने जा रहे हैं। ऐसे में अयोध्या जैसे संवेदनशील मसले पर फैसला आने से यात्रा पर भी असर पड़ सकता है। ऐसे में कल यानी 8 नवंबर को अयोध्या पर फैसला आने की खबरों के महज अफवाह होने की बातों को बल मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: अयोध्या मामले पर VHP की अपील, केस जीते तो उन्माद नहीं, हारे तो विषाद नहीं

कोर्ट के कैलेंडर पर गौर करें तो कार्यदिवसों में सात और आठ नवंबर हैं। नौ, दस, ग्यारह और बारह नवंबर को छुट्टियां हैं। फिर कार्तिक पूर्णिमा के बाद कोर्ट 13, 14 और 15 नवंबर को ही खुलेगा। 16 नवंबर को शनिवार और 17 को रविवार है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई रविवार को रिटायर हो जाएंगे। ऐसे में 13 से 16  नवंबर के बीच अयोध्या मामले में फैसला आने की उम्मीद है।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept