बीफ खाने वाला जीत जाये, यह हमारे लिये शर्म की बात: कैलाश विजयवर्गीय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2019   11:45
बीफ खाने वाला जीत जाये, यह हमारे लिये शर्म की बात: कैलाश विजयवर्गीय

कांग्रेस विधायक ने कहा, ‘‘उनका बयान मेरे क्षेत्र के मतदाताओं का अपमान है। मेरे क्षेत्र में 60 प्रतिशत हिन्दू मतदाता भी हैं। मैं अपने क्षेत्र के सभी वर्ग के मतदाताओं के समर्थन से विजयी हुआ हूं जबकि भाजपा ने केवल विभाजन पर ध्यान दिया है।’

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने शनिवार को विवादित बयान देते हुए भोपाल के कांग्रेस के एक मुस्लिम विधायक को बीफ खाने वाला बताया और कहा कि उनके मुकाबले भाजपा उम्मीदवार की पराजय पर उन्हें दुख है। शनिवार को स्थानीय भाजपा कार्यालय में भोपाल लोकसभा क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में राष्ट्रीय महासचिव एवं पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने मध्यप्रदेश में हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों में भोपाल मध्य विधानसभा सीट से भाजपा के पूर्व विधायक एवं उम्मीदवार सुरेन्द्रनाथ सिंह की पराजय पर दुख: प्रकट किया ।

विजयवर्गीय ने कहा, ‘‘सबसे ज्यादा दुख मुझे आपके (सुरेन्द्र नाथ सिंह) हारने पर हुआ है और आश्चर्य होता है कि गोहत्या को रोकने वाले चुनाव हार गए और एक बीफ खाने वाला व्यक्ति आपके सामने जीत जाये। यह हमारे सबके लिये शर्म की बात है।’’ इस बारे में भोपाल मध्य से कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने प्रतिक्रिया में कहा, ‘‘मुझे विजयवर्गीय के बयान पर अफसोस है। वह भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं और राष्ट्रीय महासचिव भी है। मैं उनसे माफी मांगने को तो नहीं कहूंगा लेकिन उन्हे अपने शब्द वापस लेना चाहिये।’’ 

इसे भी पढ़ें: SC का आदेश लोकतंत्र की जीत, ममता को देना चाहिए इस्तीफा: विजयवर्गीय

मसूद ने कहा, ‘‘विजयवर्गीय बतायें कि उन्होंने मुझे कब बीफ खाते हुए देखा है क्या उन्होने मेरे दोपहर या रात का खाना खाया है। जहां तक मेरी याददाश्त में है कि मैंने जीवन में कभी बीफ नहीं खाया है।’’ कांग्रेस विधायक ने कहा, ‘‘उनका बयान मेरे क्षेत्र के मतदाताओं का अपमान है। मेरे क्षेत्र में 60 प्रतिशत हिन्दू मतदाता भी हैं। मैं अपने क्षेत्र के सभी वर्ग के मतदाताओं के समर्थन से विजयी हुआ हूं जबकि भाजपा ने केवल विभाजन पर ध्यान दिया है।’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।